अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में यूपीए को करारा झटका

राज्यसभा चुनाव में यूपीए को झारखंड में करारा झटका लगा है। वहां यूपीए विभाजित था और इसका फायदा मिला निर्दलीय प्रत्याशी परिमल नाथवाणी को। वह विजयी रहे। नाथवाणी रिलायंस इंडस्ट्रीज से जुड़े हैं। झारखंड में दो सीटों के लिए हुए चुनाव में एनडीए के जेपीएन सिंह की जीत के बाद नाथवाणी और मशहूर वकील आरके आनंद के बीच कांटे की लड़ाई थी। आनंद कांग्रेस समर्थित स्वतंत्र प्रत्याशी थे। खास बात यह थी कि भाकपा माले के विनोद कुमार सिंह और भाकपा के रामचंद्र राम के साथ ही मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने भी मतदान में हिस्सा नहीं लिया। उधर, बिहार में पांच सीटों पर सभी दलीय उम्मीदवारों की जीत हुई। यहां केंद्रीय मंत्री एवं राजद उम्मीदवार प्रेम गुप्ता, भाजपा के डॉ. सीपी ठाकुर, जद (यू) के शिवानंद तिवारी, एनके सिंह और लोजपा के साबिर अली निर्वाचित हुए। पश्चिम बंगाल से पांच में से चार सीटों पर वाममोर्चा उम्मीदवार विजयी हुए जबकि पांचवीं सीट पर कांग्रेस-वाम समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार एएस मलीहाबादी विजयी घोषित किए गए। तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी हार गए। उन्हें सिर्फ 31 वोट मिले। वैसे, उनकी पार्टी के 30 विधायक ही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: झारखंड में यूपीए को करारा झटका