अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बर्थ को लेकर आए दिन झड़प

नयी डिजाइन की स्लीपर व एसी थ्री बोगियों में बर्थ की संख्या तो बढ़ा दी गयी है, पर आरक्षण टिकट पुराने सिस्टम के तहत दिये जा रहे हैं। इससे यात्रियों को यात्रा के दौरान भारी परेशानी हो रही है। पटना-कोलकाता गरीब रथ की बोगियों के सभी केबिन में नौ-नौ बर्थ हैं। साइड में भी तीन बर्थ दिये गए हैं। इस कारण नौ नंबर का बर्थ अपर हो जाता है, लेकिन आरक्षित टिकट में नौ नबंर के बर्थ के सामने लोअर लिखा रहता है। यात्री बोगी में प्रवेश करते हैं तो पता चलता है कि उन्हें लोअर नहीं अपर बर्थ में सोना होगा। इसको लेकर प्रतिदिन यात्रियों के बीच झड़प की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।ड्ढr ड्ढr यात्रियों को समझाने में टीटीई का भी पसीना छूट जाता है। आधे से अधिक यात्रियों की लोअर से अपर व अपर से मिडिल बर्थ हो जाती है। इसी तरह की परेशानी राजेंद्र नगर से खुलने वाली अर्चना एक्सप्रेस की कुछ स्लीपर बोगियों में होती है। इस संबंध में रेलवे के वाणिज्य विभाग के अधिकारी बताते हैं कि आरक्षण प्रणाली में सीट की संख्या कोलकाता में फीड की जाती है। जल्द ही सीटों की बढ़ायी गयी संख्या को कंप्यूटर में फीड कर दिये जाने की संभावना है। अधिकारी ने बताया कि राजेंद्र नगर-इंदौर एक्सप्रेस में भी नयी डिजाइन की बोगियां हैं। इस कारण यह परेशानी इंदौर एक्सप्रेस में भी होती थी, जिसे अब दुरुस्त कर लिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बर्थ को लेकर आए दिन झड़प