अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुझे सुबह ही लग रहा था-कोच

विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने चेन्नई में पहले टेस्ट मैच में जब तिहरा शतक पूरा किया तो सुदूर राजधानी के विकासपुरी कॉलोनी के एक घर में फोन की घंटी रूकने का नाम नहीं ले रही थी। यहां सहवाग के कोच ए. एन. शर्मा रहते हैं। ए. एन. शर्मा ने कहा कि आज न जाने क्यों सुबह मुझे ऐसा लग रहा था कि वीरू 300 रन पूरे कर लेगा। क्या उन्हें लगता था कि सहवाग एक फिर ऐसी अदभुत पारी खेलेंगे, उन्होंने कहा, ‘जो खिलाड़ी एक बार मैराथन पारी खेल चुका हो। उसे हमेशा ऐसी उम्मीद रहती है।’ सहवाग के महान बल्लेबाजों डॉन ब्रेडमैन और ब्रायन लारा की बराबरी करने पर उन्हें बचपन में खेल की बारीकियां सिखाने वाले कोच खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘यह एक ऐतिहासिक क्षण है। मुझे खुशी है कि वीरू ने एक बार फिर यह कर दिखाया।’ ए. एन. शर्मा को पूरा भरोसा है कि अगर शनिवार को मैच के चौथे दिन वीरू लंच तक विकेट पर टिका रहा तो ब्रायन लारा का रिकार्ड तोड़ देगा। लारा के नाम टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक 400 रन की पारी खेलने का कीर्तिमान दर्ज है। जो उन्होंने 2003-04 में सेंट जोंस में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया था। ऑस्ट्रेलियाई दौरे में एकदिवसीय मुकाबलों में सहवाग को मौका न दिए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘यह सब क्यों हो रहा था। सब जानते हैं। उसने साबित कर दिया कि उसकी बल्लेबाजी में कोई खामी नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘जहां तक पिछले साल की उसकी खराब फॉर्म की बात है तो यह खराब दौर हर खिलाड़ी के करियर में आता है।’ ऑस्ट्रेलिया से लौटने के बाद क्या वीरू ने उनसे टिप्स लिए थे। इस पर उन्होंने कहा, ‘लौटने के बाद उसका काफी व्यस्त कार्यक्रम था।उसे देवधर ट्रॉफी और अपनी कंपनी आेएनजीसी के लिए खेलना था। इसलिए आमने-सामने की मुलाकात तो नहीं हो सकी। लेकिन फोन पर अक्सर बात होती थी।’ अब कोच को इंतजार है कल सुबह का। क्या पता उनका होनहार शिष्य एक नया इतिहास रच दे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुझे सुबह ही लग रहा था-कोच