DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाबा नागाजरुन का गांव अब प्रखंड बनेगा : वैद्यनाथ महतो

बिहार के गौरव और देश के जाने-माने जनकवि बाबा नागाजरुन का गांव तरौनी अब प्रखंड हो जाएगा। हालांकि निर्णय लिए जाने के बाद इसे लागू होने में लगभग चार वर्ष का समय लग रहा है। तरौनी ग्राम का नाम अब नागाजरुन ग्राम कर दिया गया है। विधानसभा में शुक्रवार को राजद के अब्दुल बारी सिद्दीकी के एक गैरसरकारी संकल्प का जवाब देते हुए ग्रामीण विकास मंत्री वैद्यनाथ प्रसाद महतो कहा कि बाबा नागाजरुन के गांव को प्रखंड बनाने का सैद्धांतिक निर्णय हो चुका है।ड्ढr ड्ढr लेकिन परिसीमन के काम जारी रहने के कारण प्रखंड की अधिसूचना जारी नहीं हो पा रही थी। अब आयोग का काम खत्म हो गया है। लिहाजा अब इस गांव को प्रखंड बनाने की अधिसूचना जारी करने की कार्रवाई होगी। श्री सिद्दीकी का कहना था कि बिहार का सौभाग्य है कि नागाजरुन जैसे कवि ने यहां जन्म लिया। पूर्ववर्ती सरकार ने 2004 में मंत्रिपरिषद की बैठक में इसकी मंजूरी दी थी। इधर निर्दलीय विधायक किशोर कुमार मुन्ना के एक गैरसरकारी संकल्प पर मानव संसाधन विकास मंत्री वृशिण पटेल ने कहा कि राज्य सरकार माध्यमिक विद्यालयों के पाठय़क्रम में मैथिली भाषा को मातृभाषा के रूप में शामिल करने पर विचार करेगी। श्री मुन्ना का कहना था कि मैथिलीभाषी लोगों की आबादी तीन करोड़ है। केन्द्र की एनडीए सरकार ने इसे संविधान की अष्टम सूची में शामिल किया।ड्ढr उन्होंने कहा कि जब इस भाषा को माध्यमिक विद्यालयों में ही मातृभाषा के रूप में नहीं शामिल किया जाएगा तो इसका संवैधानिक महत्व क्या रह जाएगा। संजय सरावगी के एक संकल्प के जवाब में खेल मंत्री जनार्दन सिग्रीवाल ने कहा कि लहेरियासराय के नेहरू स्टेडियम के विकास के लिए जितनी भी राशि की जरूरत होगी, सरकार देगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाबा नागाजरुन का गांव अब प्रखंड बनेगा : वैद्यनाथ महतो