अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों के मूल्यांकन पर शिक्षकों को आपत्ति,कार्रवाई रुकी

छात्रों के मूल्यांकन के आधार पर शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने के विरोध में शनिवार को राजकीय शिक्षक संघ ने राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के नेताआें के साथ प्रमुख सचिव (मुख्यमंत्री) शैलेश कृष्ण से मुलाकात कर अपनी आपत्ति दर्ज कराई। नेताआें ने कहा कि इस तरह मूल्यांकन कराकर शिक्षकों को दण्डित करने से छात्रों का शिक्षकों के प्रति सम्मान घटेगा। राजकीय शिक्षक संघ के अध्यक्ष पारसनाथ पाण्डेय तथा महामंत्री छाया शुक्ला ने कहा कि प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री तथा प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा ने अफसरों को तत्काल कार्रवाई रोकने का निर्देश दिया है। माध्यमिक शिक्षा मंत्री ने भी कार्रवाई रोकने के लिए अफसरों को निर्देशित किया है।ड्ढr ‘हिन्दुस्तान’ ने शनिवार के अंक में मण्डल के 426 शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की खबर प्रकाशित की थी। मण्डलायुक्त विजय शंकर पाण्डेय ने स्कूलों में पठन-पाठन व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए छात्रों से शिक्षकों का मूल्यांकन कराया था। इस काम में उन्होंने शिक्षा विभाग के अफसरों की बजाय जिला प्रशासन के अफसरों को लगाया था। मण्डलायुक्त कार्यालय ने जो रिपोर्ट तैयार की है उसमें राजकीय इण्टर कॉलेजों के ज्यादातर शिक्षक कार्रवाई की जद में आ गए हैं। छात्रों ने इसमें उन शिक्षकों के नाम लिखे हैं जो पढ़ाते नहीं या जो टय़ूशन पढ़ने के लिए दबाव बनाते हैं। यहीं नहीं इसमें कई कर्मचारियों तक के नाम आ गए हैं। शनिवार को दोपहर में उत्तर प्रदेश राजकीय शिक्षक संघ की राजकीय जुबिली इण्टर कॉलेज में बैठक हुई। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष पारसनाथ पाण्डेय ने कहा कि उन्हें दो दिन पहले ही कार्रवाई की सूचना मिल गई थी लेकिन शहर से बाहर होने से वह अपना पक्ष अफसरों तक नहीं पहुँचा सके। बैठक में शिक्षकों ने तय किया कि यदि उन्हें छात्रों के मूल्यांकन के आधार निलम्बित किया गया तो वह आन्दोलन करेंगे। शाम पाँच बजे राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष एस.पी.तिवारी के नेतृत्व में कर्मचारियों व शिक्षकों का एक प्रतिनिधि मण्डल प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री शैलेश कृष्ण से मिला। शिक्षकों ने उनके सामने अपनी बातें रखीं। बाद में शिक्षकों ने प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा अरुण कुमार मिश्रा से भी मुलाकात की। अफसरों से मिलने वालों में एस.पी.तिवारी, पारसनाथ पाण्डेय, छाया शुक्ला, मुन्नालाल मिश्रा, ए.पी.चन्देल, राम प्रताप वर्मा, सुनील श्रीवास्तव, सतीश चन्द्र श्रीवास्तव प्रमुख थे।ड्ढr पारसनाथ पाण्डेय ने बताया कि संगठन की माध्यमिक शिक्षा मंत्री रंगनाथ मिश्रा से भी फोन पर बात हुई उन्होंने ने भी कार्रवाई रोकने का निर्देश दिया है। विधान परिषद सदस्य एस.पी.सिंह तथा उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ पाण्डेय गुट के प्रदेश प्रवक्ता आेम प्रकाश त्रिपाठी ने भी कार्रवाई का विरोध किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छात्रों के मूल्यांकन पर शिक्षकों को आपत्ति,कार्रवाई रुकी