DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटी की शादी के लिए थानेदारी गलत : आइजी

जोनल आइजी बीबी प्रधान ने कहा कि धनबाद में एसपी व दारोगा विवाद की तीन स्तरीय जांच हो रही है। दारोगा ने अदालत में शिकायतवाद दर्ज कराया है। जिला पुलिस ने थाने में प्राथमिकी दर्ज की है। विभागीय स्तर पर भी जांच चल रही है। जांच पूरी होने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। शनिवार को एसपी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते आइजी ने कहा कि मामला संगीन है। विभागीय अनुशासन का सवाल है। पुलिस मुख्यालय इस मामले पर गंभीर है। विवाद से विभाग की छवि धूमिल हुई है। जांच के बाद दोषी पाये जाने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई होगी।ड्ढr उन्होंने कहा कि दर्ज शिकायतवाद में न्यायालय से प्राप्त निर्देश के आलोक में ही पुलिस कार्रवाई करेगी। दर्ज प्राथमिकी पर अनुसंधान चल रहा है। अनुसंधान पूरा होने व विभागीय जांच के बाद ही इस मामले में कोई निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि पैसे देकर पोस्टिंग कराना, बेटी की शादी के लिए थानेदारी, पोस्टिंग के लिए पैसा लेना यह सब गलत है। यह विभाग व समाज दोनों के लिए ठीक नहीं है। कहां गड़बड़ी हुई है, जांच में स्पष्ट हो जायेगा। दारोगा के शिकायतवाद में बतौर गवाह दीपक वर्मा को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये जाने के मामले में आइजी ने साफ किया कि पहले के केस में गिरफ्तारी हुई है। कहीं कोई षडयंत्र नहीं है। अनुसंधान के दौरान घटना में नाम आने व साक्ष्य मिलने पर पुलिस ने कार्रवाई की है। अगर गड़बड़ी हुई है तो वह भी जांच में सामने आ जायेगा। प्राथमिकी में लेटलतीफी के सवाल पर आइजी ने कहा कि घटना 18 मार्च की है और प्राथमिकी 22 मार्च को दर्ज की गयी है। केस दर्ज करने में देरी क्यों की गयी, इसकी भी जांच होगी। मौके पर मौजूद एसपी शीतल उरांव ने कहा कि वे 18 मार्च को पुलिस बहाली में थे। आवासीय कार्यालय में उनकी अनुपस्थिति में यह घटना घटी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बेटी की शादी के लिए थानेदारी गलत : आइजी