अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहुमूल्य सामान पर नजर रहती लुटेरों की

ट्रक का ड्राइवर और खलासी सहित अपहरण कर उनकी हत्या करने के बाद सामान लूटने वाले गिरोह पहले से ही वैसे ट्रक का पता लगाए रहते हैं जिनपर बहुमूल्य सामान लदा रहता है। बताया जाता है कि इन्हें इसका पता पूर्व में ही भेजी गई संबंधित बिल्टी से किसी तरह हो जाता है। ड्राइवर व खलासी से युक्त यह गिरोह हमेशा हथियार के साथ-साथ बेहोश करने वाला इंजेक्शन अपने साथ रखता है।ड्ढr ड्ढr हथियार के बल उन्हें कब्जे में लेने के बाद पहले उन्हें बेहोश कर दिया जाता है। जो सौभाग्यशाली होते हैं उन्हें बेहोशी की हालत में ही फेंक दिया जाता है पर अधिकांश मामलों में ऐसे गिरोह ड्राइवर-खलासी की हत्या करने के बाद किसी गोपनीय स्थान पर माल को अनलोड करने के बाद ट्रक को कौड़ी के भाव बेच देते हैं। पुलिस को बरगलाने के लिए यह गिरोह मृतक के पाकेट या ट्रक में फर्जी बिल्टी डाल देते हैं ताकि मृतक की जल्द शिनाख्त न हो सके। नौबतपुर मामले में भी अपराधियों ट्रक को बेचने की मंशा थी। पर कुछ कि. मी. दूर जाने पर ट्रक के गियर ने धोखा दे दिया और उसका सेकेंड और थर्ड गियर छोड़ने लगा। इसके बाद अपराधियों ने अपनी मंशा बदल दी और खाली ट्रक को एक निर्जन स्थान पर छोड़ दिया। शनिवार की देर शाम से रविवार के दोपहर तक पुलिस अधिकारियों द्वारा की गई छापेमारी में बहुत कुछ बातें सामने आयी हैं। पकड़े गए अपराधी अप्पू के अनुसार घटना के दिन दो मोटर साइकिल पर सवार अप्पू व विनय तथा मनोज व बाबा ट्रक को एस्कार्ट कर आगे-आगे चल रहे थे। ट्रक से जब सामान उतारा जा रहा था तभी ड्राइवर होश में आ गया। तब एक अपराधी मनोज मुखिया अभय तिवारी से ़्फसुली मांग कर लाया। पहले गर्दन काटकर हत्या की योजना बनी पर बाद में दोनों के सिर में गोली मार कर उनकी हत्या कर दी गई। पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस कांड में शामिल सभी अपराधियों की शिनाख्त हो गई है जिन्हें 48 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बहुमूल्य सामान पर नजर रहती लुटेरों की