अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फर्नाडीस ने फिर चीन को दुश्मन नंबर एक कहां

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नाडिस ने तिब्बत को चीन का हिस्सा मानने के लिए राजग सरकार की आलोचना की है। इसके साथ, उन्होंने कम्युनिस्ट राष्ट्र को संभावित रूप से ‘दुश्मन नंबर एक’ बताया है। तिब्बत में हिंसा के मामले पर यूपीए सरकार के रुख की निंदा करते हुए फर्नाडिस ने कहा कि बीजिंग में इस साल अगस्त में होने वाले आेलंपिक खेलों और देश में इस्तेमाल हो रहे चीनी माल का बहिष्कार किया जाना चाहिए।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि सरकार को आेलंपिक मशाल के देश में प्रवेश की अनुमति नहीं देनी चाहिए और अगर मशाल यहाँ आती है तो उनके समर्थक उसे नुकसान पहुँचाने का हर संभव प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा, ‘मैंने अपने सभी सहयोगियों और तिब्बत अभियान के समर्थकों से मशाल का भारत में प्रवेश रोकने के लिए हर संभव प्रयास करने का आह्वान किया है।’ फर्नाडिस ने कहा कि चीन के अंग के रूप में तिब्बत को मान्यता देकर पूर्व में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने ठीक नहींकिया था। यह ‘गलती’ नहीं ‘चूक’ थी। एक खबरिया टीवी चैनल पर साक्षात्कार में उन्होंने अपने 10 वर्ष पूर्व दिए बयान को याद करते हुए कहा कि चीन देश का ‘दुश्मन नंबर एक’ हो सकता है। उन्होंने 10 वर्ष पूर्व चीन को सबसे बड़ा खतरा बताया था। चीन के विदेश मंत्रालय की आेर से भारतीयराजदूत निरुपमा राव के खिलाफ हाल में देर रात समन जारी किए जाने के मुद्दे पर पूछे जाने पर फर्नाडिस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने इस मुद्दे पर चीन के सामने समर्पण कर दिया है। पूर्व रक्षामंत्री ने अपनी आत्मकथा लिखने की जानकारी भी दी है। उन्होंने कहा कि उनकी किताब में राजग सरकार में छह वषरे के कार्यकाल का सम्मूर्ण वर्णन होगा।ंं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फर्नाडीस ने फिर चीन को दुश्मन नंबर एक कहां