DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईएसआई ने बढ़ाए कश्मीर में आतंकियों के वेतन

इस बात के ठोस संकेत मिले हैं कि पाकिस्तान की दुर्दांत खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस (आईएसआई) ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में विभिन्न प्रशिक्षण शिविरों में रह रहे आतंकवादियों को फिर से सीधे धन देना शुरू कर दिया है और इस बार बढ़ी हुई राशि मंजूर की गई है। रक्षा सूत्रों ने विभिन्न संदेशों के हवाले से बताया कि अंतरराष्ट्रीय दबाव में काफी समय तक आतंकवादियों को सीधे धन मुहैया कराने से बच रही आईएसआई ने जम्मू कश्मीर में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कश्मीरी आतंकी गुटों पर फिर से निवेश करना शुरू कर दिया है। रक्षा सूत्रों ने कहा कि इस बार विवाहित आतंकवादियों की पगार और भत्ते मिलाकर दस हजार रुपए प्रति माह तय की गई है जबकि अविवाहित आतंकवादियों के लिए आठ हजार रुपए प्रतिमाह की राशि मंजूर की गई है। सूत्रों ने कहा कि आतंकवादियों को सीधे धन मुहैया कराना बंद करने से पहले आईएसआई विवाहित आतंकवादी को पांच हजार रुपए और अविवाहित काडर को चार हजार रुपए दे रही थी। आईएसआई इस बंधी हुई रकम के अलावा पांच सौ रुपए जोखिम भत्ते के रूप में अलग से देती रही है। किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने के लिए नकद पुरस्कार राशि की भी व्यवस्था है। लेकिन रक्षा सूत्रों ने कहा कि जम्मू कश्मीर में आतंकवाद की रीढ इस कदर टूट चुकी है कि आईएसआई का हर हथकंडा नाकाम साबित हो रहा है। सूत्रों ने कहा कि आतंकवादियों के लिए स्थानीय सूचना के स्रोत सूखते जा रहे हैं और विभिन्न गुटों में पुलिस की मुखबिरी को लेकर आपस में संदेह का माहौल बन गया है। सीमा पार के संदेशों के हवाले से सूत्रों ने कहा कि अब पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी की पूरी कोशिश यह है कि आने वाली गर्मियों में बड़े पैमाने पर घुसपैठ कराई जाए ताकि विधानसभा चुनाव के समय गड़बड़ी की जा सके। आईएसआई की इन हरकतों का पता ऐसे समय चला है जबकि हाल ही में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एम के नारायणन ने आतंकवादी गुटों को आईएसआई का समर्थन बदस्तूर जारी रहने की बात कही थी और गृह मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट में भी इस आशंका की पुष्टि की गई। रक्षा सूत्रों ने कहा कि इस सारी स्थिति को देखते हुए उत्तरी कमान को घुसपैठ से निपटने के लिए पूरी तरह सजग किया गया है। नियंत्रण रेखा को हर तरह से चाक चौबंद रखने के उपाय किए जा रहे हैं और स्थानीय स्तर पर आतंकवादियों को मिलने वाली सहायता के रास्ते भी बंद करने की योजना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सौ फीसदी बढ़े कश्मीर में आतंकियों के वेतन