अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहली बार त्रिपुरा को मिलेगी रेल की सौगात

रेल मंत्रालय ने त्रिपुरा सरकार को भरोसा दिलाया है कि राज्य की राजधानी अगरतला को आगामी जून तक रेल सेवा से जोड़ दिया जाएगा। पूवर्ोत्तर रायों में गुवाहाटी के बाद रेल सेवा से जुड़ने वाली अगरतला दूसरी राजधानी होगी। रेलवे सुरक्षा आयुक्त बलबीर सिंह की अध्यक्षता वाले आठ सदस्यीय निरीक्षण दल की रिपोर्ट मिलने के बाद रेल मंत्रालय ने इस तिथि की पुष्टि की है। इस दल ने गत सप्ताह अम्बासा : अगरतला मार्ग पर पटरियां बिछाने के काम का जायजा लिया था। सुरक्षा आयुक्त के अलावा उत्तर पूर्व सीमान्त रेलवे के तीन सदस्यीय उच्चस्तरीय दल ने भी गत सप्ताह इस परियोजना की समीक्षा की थी। इसके बाद मत्रांलय ने स्पष्ट किया कि अगरतला से पहली ट्रेन जून तक शुरू कर दी जाएगी। त्रिपुरा के परिवहन मंत्री मनिक डे ने बताया कि राय सरकार के लगातार दवाब के चलते प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने त्रिपुरा की रेलवे परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया और अगरतला को रेल से जोड़ने के लिए 7.6 करोड़ रुपए राशि स्वीकृत की। उन्होंने बताया कि सभी तीनों बड़ी सुरंगों को बनाया जाएगा, जिनमें लोंगथारी वैली बरमपुरा और अथरामुरा शामिल हैं। इनमें 1मीटर लम्बी थराई सुंरग देश के पूर्वी भाग में सबसे बड़ी सुरंग है। डे ने बताया कि पूवर्ोत्तर सीमान्त रेलवे 110 किलोमीटर लम्बे अगरतला : सबरूम मार्ग पर स्थानीय सर्वे का काम पूरा होने के बाद अगले वर्ष जनवरी बाद पटरियां बिछाने का काम तक शुरु कर देगा। उन्होंने कहा कि यदि भारतीय रेलवे सबरूम तक रेलवे लाइन बिछा देता है तो बंग्लादेश के चटगांव अतंरराष्ट्रीय बन्दरगाह तक पहुंच आसान हो जाएगी जो कि यहां से मात्र 75 किमी दूर है। सबरूम तक रेलवे लाइन पहुंचने के साथ ही त्रिपुरा सहित सम्पूर्ण पूवर्ोत्तर दक्षिणपूर्वी एशिया से जुड़ जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पहली बार त्रिपुरा को मिलेगी रेल की सौगात