अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टकराई टिकैत और पुलिस की लाठी

मुख्यमंत्री मायावती पर जातिसूचक टिप्पणी करने के मामले में भाकियू सुप्रीमो चौ. महेंद्र सिंह टिकैत को गिरफ्तार करने सिसौली पहुंची पुलिस का सोमवार तड़के किसानों से जबरदस्त टकराव हो गया। इसमें तीन किसानों सहित आधा दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए। किसानों ने एसडीएम और सीआे बुढ़ाना की गाड़ियों में भी तोड़फोड़ की। ग्रामीण के तेवर देख दोनों अफसर गाड़ियां छोड़कर भाग गए। गिरफ्तारी संभव न होने पर शाम को अधिकारियों की टीम जिला मुख्यालय लौट गई। अलबत्ता पुलिस ने महेन्द्र सिंह टिकैत के छोटे पुत्र सुरेन्द्र सिंह टिकैत को सात किसानों के साथ गिरफ्तार कर लिया। उधर, 8 अप्रैल को सिसौली में किसान महापंचायत की घोषणा की गई है। भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि महापंचायत में अजित सिंह सहित कई मायावती विरोधी नेता शामिल होंगे। चौ. महेंद्र सिंह टिकैत ने रविवार को बिजनौर के दारानगर गंज की किसान स्वाभिमान महारैली में मुख्यमंत्री मायावती के लिए जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया था। इस मामले में उन पर एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तारी के लिए रविवार शाम से ही पुलिस लगा दी गई। लेकिन पुलिस को धता बता टिकैत सिसौली पहुंच गए। पुलिस ने जब किसान भवन पर धावा बोला तो किसान मुकाबले के लिए आगे आ गए और उन्होंने पुलिस पर ईंट और पत्थर बरसाने शुरू कर दिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: टकराई टिकैत और पुलिस की लाठी