अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

ाहे, किडनी वाला गया, तो दिल वाला आ गया क्या- दिलीप रक्षितड्ढr सीने से निकालकर तिजोरी में रख दूं क्या- शेखर, जैंतगढड़्ढr कैसे संभालूं, दीपिका जो पीछे पड़ी है- बसंत गोयल, धनबादड्ढr रखा था, पर मिस्ड कॉल कर-करके बर्बाद कर गयी- वरना दीपिका तोड़ने के लिए तैयार बैठी है- नरेश, मोहुलपहाड़ीड्ढr संभलिये जाता, तो इ सैंडिल की मार काहे खानी पड़ती- मुकुल जी, चाईबासा नाजुक हैं दिल रखिये संभालकर दिल के कलर वाला लिपिस्टकवा संभालने देगा तब न मुझेखरीदना आसान नहीं : बाबूलालड्ढr अपुन को कठिन काम करने की आदत शुरू से है- राजेश प्रसाद, भरनोड्ढr जो खाली धक्का मारता रहता है, उसको खरीदेगा भी कौन- अजय राय, चासड्ढr एनोस भइया को भेजें क्या- आेमप्रकाश गोयल, सिमडेगाड्ढr बल्कि सबसे बड़ी बेवकूफी होगी- मिंटू, धनबादड्ढr आपको खरीद कर कौन आफत मोल लेगा- आरबी कुमार, चंदवाड्ढr ठीक है, पर कीमत बता देते, तो लोगों को थोड़ी आसानी होती- ज्योति कुमारड्ढr लेकिन आपकी पर्टिया को हराना तो आसान है न- श्यामेंद्र श्याम, जमुआड्ढr मतलब बिकने के लिए आप भी तैयार हैं- संजीव, कुजूड्ढr धौनी से भी ज्यादा बोली लगाना होगा क्या- नीलकंठ चंद्रवंशी, राजगंजड्ढr आपको खरीदने के लिए नाथवाणी नहीं सीधे अंबानी को आना पड़ेगा- सोहनड्ढr पूंछ पकड़कर उठानेवाला बैल कौन किसान खरीदेगा जी- एके दुबे, पूर्वडीहाड्ढr पर झाड़ी में गुलाब शोभा नहीं देता- मरियानुस टूडु, पथनाड्ढr बोलिये तो निर्दलीयों को बोल कर निलामी करवा देते हैं- 05ड्ढr काहे, डॉलर में कीमत लगा रहे हैं क्या- शिव, चासड्ढr पत्रकारों पर मेहरबान हुए भानूड्ढr बीमा करवा कर पेंशन का या पिटवाने की योजना है- चंदन, पलामूड्ढr आज तलाशेंगे महंगाई का तोडड़्ढr ताकि सलामत रहे कुरसी का चारो गोड़- नीता, चाईबासाड्ढr यूपी में अब नया बरगद लगायेगी कांग्रेसड्ढr क्योंकि पुराना प्रेतग्रस्त था, नया रोगग्रस्त हो तो हो- रवींद्र, जमशेदपुरड्ढr मोबाइल धूम्रपान से ज्यादा खतरनाकड्ढr कुछो हो, हमलोग तो कांव-कांव में एसएमएस करबे करेंगे- प्रताप पॉल, रांचीड्ढr चार हफ्ते में 42000 महिलाएं साक्षरड्ढr तो क्या चाहते हैं, इ लोग के लिए नया विश्वविद्यालय खोल दें- कासिफ राजाड्ढr आदमी के काटने से सांप की मौतड्ढr और सांप ने पानी तक नहीं मांगा- विशाल सिंह, डालटनगंजड्ढr द्य कुत्ते को हो सकती है मालिक से एलर्जीड्ढr -लो जी लो, पहले सिर्फ मालकिन को थी, अब कुत्ते को भी हो गयी- जीतेंद्र

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग