अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू ने दिया लम्बे समय के लिए ट्रेन यात्रियों को दर्द

रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव ने रेल बजट में किराया न बढ़ाकर लोगों की वाहवाही लूटी हो लेकिन अस्थायी रूप से बढ़ाए गए संरक्षा अधिभार को उन्होंने लम्बे समय तक वसूलने की पक्की व्यवस्था कर दी है। उन्होंने संरक्षा अधिभार का नाम बदलकर ‘डेवलपमेंट चार्ज’ कर दिया है। दूसरी तरफ पहली अप्रैल से न तो वरिष्ठ महिलाआें के आरक्षण में 50 फीसदी की रियायत दी गई और न ही घटाया गया किराया लागू किया गया। इसको लेकर रेलयात्री खासे खफा हैं।ड्ढr पूर्व रेलमंत्री नीतीश कुमार ने जर्जर पुलों व पटरियों की मरम्मत के नाम पर एक निश्चित अवधि तक संरक्षा अधिभार वसूलने की घोषणा की थी। यह अवधि 2007 में पूरी हो गई। रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव ने संरक्षा अधिभार समाप्त करने के बजाए उसका स्वरूप बदलकर ‘डेवलपमेंट चार्ज’ कर दिया। यह चार्ज प्रत्येक यात्री से कब तक वसूला जाएगा इसका कोई खुलासा नहीं किया गया है। भारतीय रेल सम्मेलन द्वारा जारी यात्री किराया तालिका में भी संरक्षा अधिभार की जगह विकास अधिभार कर दिया गया है। किराए में लगातार की जा रही बाजीगरी का खामियाजा रेल यात्रियों को ही भुगतना पड़ रहा है। तत्काल दर्जे की पाँच फीसदी शायिकाआें को बढ़ाकर 15 प्रतिशत करके यात्रियों से रोजाना करोड़ों रुपए वसूले जा रहे हैं। पहले से ही आरक्षण टिकट निरस्तीकरण की दरें करीब दोगुनी करके उन्हीं टिकटों से अच्छी खासी कमाई की जा रही है। जाने व लौटने का टिकट एक साथ लेने पर वापसी के टिकट पर अतिरिक्त पैसा वसूलकर फायदा दिखाया जा रहा है। दैनिक यात्रियों से भी आम यात्रियों की भाँति ही विकास अधिभार लिया जाएगा। दूसरे दर्जे के यात्रियों से हर महीने 10 रुपए और प्रथम श्रेणी के यात्रियों से 20 रुपए वसूल किए जाएँगे। इसके अलावा रेलबजट में किराए में कमी की घोषणा नए डिब्बों के आने पर ही लागू होगी। इस मामले में रेलवे बोर्ड के उप महानिदेशक (जन सम्पर्क) अनिल सक्सेना का कहना है कि डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर जैसी योजनाआें के साथ ही रेलवे के विकास के लिए यात्रियों से ‘डेवलपमेंट चार्ज’ लिया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लालू ने दिया लम्बे समय के लिए ट्रेन यात्रियों को दर्द