DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिर्फ ताल ही ठोकेंगे या वाकई जेल जाएँगे कांग्रेसी कार्यकर्ता!

प्रदेश कांग्रेस के अधिवेशन में सोनिया कार्यकर्ताआें को जंग के मैदान में उतरने और जेल जाने का संदेश दे गईं। लेकिन कांग्रेसियों के जेल जाने का रिकार्ड बहुत खराब रहा है। सोनिया इससे पहले भी ‘जेब भरने वालों’ के खिलाफ जेल जाने का ऐलान कर चुकी हैं। लेकिन कांग्रेसियों ने यह आंदोलन रस्म अदायगी के तौर पर एक हफ्ते में ही निपटा दिया था।ड्ढr विधानसभा चुनाव से करीब आठ महीने पहले सोनिया गांधी ने 20 सितम्बर 2006 को बरेली की रैली में मुलायम सरकार पर केन्द्र सरकार के धन का दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए कांग्रेसियों को जेल जाने का आह्वान किया था। इस आह्वान के पाँच दिन बाद ही यूपी कांग्रेस ने अपनी कार्यकारिणी की पहली बैठक बुलाई। लेकिन इस बैठक का एजेंडा जेल भरो अभियान शुरू करने के बजाए निकाय चुनाव हो गया। निकाय चुनाव खत्म होने के बाद अक्तूबर में कांग्रेस नेताआें ने कहा कि रमजान शुरू हो रहे हैं। क्या भूखे पेट कार्यकर्ता जेल जाएँगे? अक्तूबर में जेल भरो टल गया। बहुत दबाव के बाद यूपी कांग्रेस ने 20 नवम्बर को जेल भरो आंदोलन रस्मी तौर पर शुरू किया। स्थानीय स्तर पर प्रदर्शन हुए। हर जिले से कार्यकर्ताआें की गिरफ्तारी के दावे हुए। फिर 27 नवम्बर को विधान भवन के सामने पुलिस के डंडे खाने के बाद पूरा आंदोलन एक हफ्ते के अंदर ही खत्म हो गया।ड्ढr इस बार कानपुर में सोनिया ने फिर जेल भरो का आह्वान किया है। यूपी के कांग्रेसियों की जेल जाने के पिछले रिकार्ड को देखते हुए सोनिया गांधी ने सोमवार को यहाँ तक कह दिया कि जरूरत पड़ी तो राहुल गांधी भी उनके साथ जेल जाएँगे। इस बार जेल जाने के कार्यक्रम कब शुरू हो रहा है? ‘हिन्दुस्तान’ के इस सवाल के जवाब में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि ‘अभी तो उपचुनाव लड़ रहे हैं हम 12 तक। इसके बाद प्रदेश की मीटिंग बुलाएँगे, मुद्दों का निर्धारण करेंगे तब बिगुल बजेगा जनआंदोलन का।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सिर्फ ताल ही ठोकेंगे या वाकई जेल जाएँगे कांग्रेसी कार्यकर्ता!