DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संसदीय चुनाव के आरंभिक नतीजों से मुगाबे को झटका

जिम्बाब्वे में राष्ट्रपति एवं संसदीय चुनाव में राष्ट्रपति राबर्ट मुगाबे की पार्टी जानू पीएफ को विपक्षी पार्टी मूवमेंट फॉर डेमोक्रेटिक चेंज (एमडीसी) से कड़ी चुनौती मिली रही है। चुनाव आयोग ने अब तक छह संसदीय सीटों के चुनाव परिणामों की घोषणा की है जिनमें तीन सीटें जानू पीएफ को मिली है जबकि तीन सीटें एमडीसी की झोली में गई है। चुनाव परिणामों की घोषणा में हो रही देरी को लेकर एमडीसी ने आरोप लगाया है कि सरकार को धांधली के लिए समय देने के मकसद से ऐसा किया जा रहा है। शनिवार को हुए चुनावों के पूरे नतीजों के बाद यह तय होगा कि राष्ट्रपति मुगाबे छठी बार देश का नेतृत्व कर सकेंगे या नहीं। पूरे नतीजे अगले दो दिनों में आने की उम्मीद है। मुगाबे 10 में मिली आजादी के बाद से लगातार जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति हैं। इन चुनावों को 28 वर्षो के शासनकाल में उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती माना जा रहा है। मुगाबे को राष्ट्रपति पद के लिए विपक्षी पार्टी एमडीसी के नेता मार्गन चांगिरई से कड़ी चुनौती मिल रही है। चांगिरई तीसरी बार राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे हैं। चांगिरई की पार्टी दो धड़ों में विभाजित है जिसके कारण उनके वोटों के बंटने की आशंका व्यक्त की गई थी। एमडीसी ने अनौपचारिक परिणामों के आधार पर जीत का दावा भी कर दिया है। सूचना मंत्री शिखानाइसों ने एमडीसी पर आरोप लगाया है कि वह अनुमान और झूठ का सहारा ले रही है जिससे लोगों में अनावश्यक खौफ पैदा हो रहा है। चुनाव अधिकारियों का कहना है कि राष्ट्रपति चुनाव के साथ कई अन्य चुनाव कराने के कारण ही चुनाव परिणामों के सामने आने में देरी हो रही है। शनिवार को ही सीनेट और स्थानीय निकायों के भी चुनाव कराए गए थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनाव के आरंभिक नतीजों से मुगाबे को झटका