DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रीयता को बहस का मुद्दा बनाना दुर्भाग्यपूर्ण : भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह मोहन भागवत ने आजादी के 60 साल बाद भी अपने ही देश में राष्ट्रीयता को बहस का मुद्दा बनाए जाने को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय विचारधारा का प्रचार-प्रसार हर हाल में होना चाहिए। इस काम में विश्व संवाद केन्द्र महत्ववपूर्ण भूमिका निभा सकता है। वह सोमवार को यहां विश्व संवाद केन्द्र, पटना द्वारा फ्रेजर रोड के सूर्या अपार्टमेंट की 10वीं मंजिल पर खरीदे गए फ्लैट के उद्घाटन के मौके पर बोल रहे थे।ड्ढr ड्ढr श्री भागवत ने कहा कि प्रोफेशनल होना ठीक है लेकिन सिर्फ व्यावसायिक होकर पैसा कमाना सही नहीं है। पत्रकारिता का धर्म स्वस्थ-सुंदर और परोपकारी जीवन का निर्माण होना चाहिए। पत्रकारों को अपने सामाजिक दायित्वों का पूरी तत्परता से पालन करना चाहिए। उन्होंने आरएससएस के क्षेत्रीय संघचालक कृष्ण वल्लभ प्रसाद नारायण सिंह उर्फ बबुआजी पर आधारित संवाद दर्शन के विशेषांक का लोकार्पण भी किया। इस मौके पर आरएसएस के क्षेत्र संघचालक श्री सिद्धनाथ, केन्द्र के अध्यक्ष श्रीप्रकाश नारायण सिंह, संवाद दर्शन के संपादक संजीव कुमार, क्षेत्रीय प्रचारक स्वांत रंजन, प्रांत प्रचारक अनिल ठाकुर और पूर्व केन्द्रीय मंत्री डा. सीपी ठाकुर मौजूद थे। ड्ढr सिपाही की संदेहास्पद स्थिति में मौतड्ढr पटना (हि.प्र.)। सचिवालय थानांतर्गत 14 एम स्ट्रैंड रोड स्थित आवास के बाहर लगे टेंट से सोमवार की शाम एक आरक्षी की लाश पुलिस ने बरामद की है। उसकी मौत दो -तीन दिनों पहले हुई बतायी जाती है। मृतक की पहचान राममूर्ति राय (55) के रूप में हुई है पर इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। मौत के कारणों का पता नहीं चला है पर सचिवालय डीएसपी श्रीधर मंडल ने बताया कि उसकी मौत बीमारी के कारण हुई है। पिछले तीन-चार दिनों से वह डायरिया से पीड़ित था। डीएसपी ने बताया कि उसके साथ खाली आवास की सुरक्षा में लगे एक और साथी अनु भगत छुट्टी पर हैं। मृतक आरक्षी के सिर पर जख्म के भी निशान पाए गए हैं जिससे किसी अनहोनी की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता है। पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बहरहाल पुलिस की मौत की सूचना मिलने के बाद पुलिस अधिकारियों के बीच हड़कंप मच गया। चौंकाने वाली बात यह है कि घटनास्थल के बगल में ही आवास की सुरक्षा कर रहे लोगों की इसकी भनक भी नहीं लगी। वहीं दूसरी तरफ आवास के भीतर र्सवेट क्वार्टर में रह रहे रामचन्द्र यादव ने कहा कि सुबह में मृतक को खाना बनाते भी देखा गया था। घटनास्थल पर मौजूद गुड्डु शर्मा ने बताया कि वह धार्मिक प्रवृति का था। वह टेंट से केवल जरूरी कामों से बाहर निकलता था। सिर पर जो चोट के निशान हैं उसके बारे में उन्होंने बताया कि शायद वह गिर गया हो और लोहे के बेड से उसे चोट लगी हो। वैसे पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चलेगा कि आरक्षी की मौत कैसे हुई।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राष्ट्रीयता को बहस का मुद्दा बनाना दुर्भाग्यपूर्ण : भागवत