DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मंदी के बावजूद आर्डर मिलते रहे प्रमुख कंपनियों को

हालांकि पूरी दुनिया में आर्थिक मंदी का दौैर चल रहा है,पर लगता यह है कि इससे भारतीय कंपनियां कमोबेश प्रभावित नहीं ही हुई हैं। अगर बात वित्त साल 2007-08 की हो तो भारतीय कंपनियों को तगड़े आर्डर मिलते रहे। इस दौरान उन्हें 142,16रोड़ रुपये के आर्डर प्राप्त हुए। जबकि इससे पहले वाले साल में 74,568 करोड़ रुपये आर्डर मिले थे भारतीय कंपनियों को। बाम्बे स्टाक एक्सचेंज से मिली ताजा जानकारी के अनुसार कुल मिले आर्डरों का 76 प्रतिशत पावर, तेल, गैस, इंजीनियरिंग सेक्टरों के खाते में गया। इनमें से 37 प्रतिशत आर्डर मिले प्राइवेट सेक्टर से, 25 प्रतिशत विदेशी कंपनियों से और 38 फीसदी आर्डर आए इन कंपनियों की झोली में केन्द्र और राज्य सरकारों की तरफ से। कुल मिले आर्डरों का 55 प्रतिशत हिस्सा एल एंड टी, डीएलएफ, भेल, पुंज लायड, सिमप्लेक्स इन्फ्रा, नागाजरुन कन्सट्रक्शन, रिलायंस एनर्जी, एबीजी शिपयार्ड और एसीसी के खाते में गया। एलएंडटी को 23,234 करोड़ रुपये के, डीएलएफ को 12,675 करोड़ रुपये के, भेल को 10,475 करोड़ के, पुंज लायड को 7,7रोड़ रुपये के, रिलायंस एनर्जी को 3,725 करोड़ रुपये के, एबीजी शिपयार्ड 3,6रोड़ों रुपये और एचसीसी को 3,077.73 करोड़ रुपये के आर्डर मिले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मंदी के बावजूद आर्डर मिलते रहे कंपनियों को