अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीएससी पैटर्न पर 11वीं की परीक्षा आज से

सूबे में बुधवार से 11वीं की परीक्षा शुरू हो रही है। इसको लेकर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के उच्च माध्यमिक प्रभाग ने पूरी तैयारी कर ली है। सभी जिलों को प्रश्न पत्र भेज दिया गया है और स्कूलों को परीक्षा के दौरान पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। प्रश्न लीक न हो इसके लिए सात सेटांे में प्रश्न पत्र तैयार कराया गया है। इस परीक्षा में पास होने पर ही छात्रों को 12वीं क्लास के लिए प्रोन्नत किया जाएगा और वे बोर्ड का परीक्षा दे पाएंगे।ड्ढr ड्ढr वर्ष 200से पूरी तरह से सीबीएसई पैटर्न पर 12वीं की परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। इसको लेकर 11वीं की परीक्षा का महत्व काफी बढ़ गया है। समिति के उच्च माध्यमिक प्रभाग के निदेशक (शैक्षणिक) रघुवंश कुमार ने बताया कि 11वीं की परीक्षा को भी पूरी तरह से सीबीएसई पैटर्न पर लिया जाएगा। इसके लिए प्रश्न पत्र तैयार करते समय पूरा ध्यान रखा गया है। श्री कुमार ने बताया कि प्रश्न पत्र में 35 से 40 प्रश्न रखे गए हैं। इसको विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया गया है। वस्तुनिष्ठ, अति लघु उत्तरीय व लघु उत्तरीय प्रश्नों की संख्या लगभग 65 से 70 फीसदी के बीच रहेगी। इससे छात्रों को अधिक अंक लाने में अधिक परेशानी नहीं होगी। उनका कहना है कि अगर छात्रों ने सही ढंग से पूरे सिलेबस का अध्ययन किया हो तो वे अच्छे अंक ला सकते हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि सात सेटांे में प्रश्न पत्र तैयार कराया गया है। अनुमंडल स्तर पर स्कूलों का विभाजन कर प्रश्न पत्रों के सेट का वितरण किया गया है। किसी भी स्कूल के बगल वाले स्कूल में समान प्रश्न पत्र नहीं दिया जाएगा। इससे प्रश्नों के लीक होने की संभावना बहुत कम रहेगी। उन्होंने कहा कि स्वच्छ व कदाचारमुक्त माहौल में परीक्षा लेने की जिम्मेवारी स्कूल प्रशासन की है। परीक्षा के बाद उत्तर पुस्तिकाआें का मूल्यांकन कराकर अंक पत्र को जिला शिक्षा पदाधिकारी के माध्यम से समिति में जमा कराने का निर्देश दिया गया है।ड्ढr ड्ढr शांतिपूर्ण समाप्त हुई मैट्रिक परीक्षाड्ढr पटना (हि.प्र.)। मंगलवार को मैट्रिक परीक्षा के दौरान कहीं से किसी अप्रिय घटना का समाचार नहीं है। अतिरिक्त विषय की परीक्षा के कारण छात्रों का प्रतिरोध भी कम ही देखने को मिला। हालांकि परीक्षा के अंतिम दिन भी जहानाबाद से चार परीक्षार्थियों को नकल करते पकड़ा गया। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा परीक्षा के संचालन के लिए जिलाधिकारियों को मुख्य परीक्षा नियंत्रक बनाने का फामरूला मैट्रिक परीक्षा में भी हिट रहा। परीक्षा के दौरान कोई बड़ी घटना नहीं घटी और इसी का परिणाम है कि इस बार कहीं पर भी पुनर्परीक्षा की स्थिति उत्पन्न नहीं हुई। मैट्रिक परीक्षा के दौरान सूबे में 1परीक्षार्थियों को पकड़ा गया। प्रत्येक छात्र से 2000 रुपये बतौर जुर्माना वसूला गया। इस तरह से समिति को 30 लाख रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ। अब परीक्षा समिति ने मैट्रिक के कॉपियों के मूल्यांकन की तैयारियां शुरू कर दी है। मूल्यांकन कार्य छह अप्रैल से शुरू होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सीबीएससी पैटर्न पर 11वीं की परीक्षा आज से