DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चकमा शरणार्थियों को निकाला जा सकता है : कोर्ट

गुवाहाटी उच्च न्यायालय ने एक ऐतिहासिक निर्णय में कहा है कि चकमा शरणार्थियों को संरक्षित वन्य भूमि से निकाला जा सकता है। अरूणाचल प्रदेश के चांगलांग जिले में दियून संरक्षित वन्य भूमि पर चकमा शरणार्थियों ने अवैध रूप से कब्जा किया हुआ है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को बताया कि चकमा शरणार्थियों ने अपनी याचिकाओं में स्वयं कहा है कि उन्होंने रहने के लिए पेड़ काट कर जगह बनाई है, जिससे यह पता चलता है कि उन्होंने इस भूमि पर अवैध कब्जा कर रखा है। उच्च न्यायालय ने अरूणाचल प्रदेश, मुख्य वन्य संरक्षक (पीसीसीएफ) नामपोंग वन्य मंडल और चांगलांग जिले के उपायुक्त के पक्ष में चार मामलों को निपटाते हुए याचिकाकर्ताआे को नोटिस का जवाब देने का अवसर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चकमा शरणार्थियों को निकाला जा सकता है : कोर्ट