अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बगावत से उड़ी उमा की नींद

भगवा ब्रिगेड की तेजतर्रार संन्यासिन उमा भारती को अपनी ही पार्टी से बेदखल करने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। उमा की मनमानी के खिलाफ उनकी पार्टी भारतीय जनशक्ित के 13 में से 10 राज्यों के अध्यक्षों ने उन पर हल्ला बोलते हुए उनके खासमखास रहे पार्टी के महासचिव और पूर्व सांसद प्रहलाद पटेल को नेता चुन लिया है। इनमें से छह ने तो बकायदा लिख कर उमा भारती को भेज दिया है। इन नेताआें की बैठक दिल्लीमें हुई। भाजश के संस्थापक सदस्य और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उमेश माथुर ने बताया कि हमने उमा भारती की तानाशाही और उनके असंवैधानिक फैसलों के खिलाफ पटेल को नेता चुन लिया है। यह पूछे जाने पर क्या पटेल पार्टी के अध्यक्ष होंगे, उन्होंने कहा कि शीघ्र ही उनकी ताजपोशी हो जाएगी। पार्टी में उमा के वजूद के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया कि वे तो खुद भाजपा में जाने की तैयारी कर रही हैं। उमा के खिलाफ बगावत करने वाले राज्यों में उनका राज्य मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, राजस्थान और गुजरात भी शामिल है। पहले भी कई बड़े नेता उमा भारती का साथ छोड़ चुके हैं। इनमें पूर्व मंत्री स्वामी चिन्मयानंद, तपन सिकदर, संजय पासवान, पूर्व सांसद वसवराज पाटिल, और रामाशीश राय प्रमुख हैं। लेकिन तब पार्टी के टूटने की नौबत नहीं आई थी। इस बार तो बगावत ने उमा की नींद उड़ा दी है। इस मसले पर उमा भारती की प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है। दूसरी मुखिया चुने जाने के बाद पटेल ने बताया कि उमा भारती पार्टी संविधान के अनुरूप कार्य नहीं कर रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बगावत से उड़ी उमा की नींद