DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महँगाई पर काबू के लिए केन्द्र ने बनाई कमेटी

ेन्द्र की संप्रग सरकार ने बढ़ती महँगाई पर नजर रखने के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी के गठन की घोषणा की है। कैबिनेट सचिव या कृषि सचिव में से कोई एक इस कमेटी की अध्यक्षता करेगा। इस बीच, योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलुवालिया ने बुधवार को कहा कि हर देश में आवश्यक चीजों के दाम तेजी से बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल सरकार सभी जरूरी उपाय कर रही है।ड्ढr वहीं वित्त राज्य मंत्री पीके बंसल ने कहा कि बढ़ती महँगाई पर सरकार चिंतित है और स्थिति के हिसाब से जरूरी कदम उठाए जाएँगे। सरकार और कौन से कदम उठा सकती है? इस पर बंसल ने कहा कि यह अभी नहीं बताया जा सकता, लेकिन सरकार समीक्षा कर रही है। दूसरी आेर, जदयू अध्यक्ष शरद यादव ने कहा कि अगर कृषि मंत्री शरद पवार अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा सकते तो वह अपना पद छोड़ दें।ड्ढr बुधवार को सरकार ने गैर बासमती चावल के निर्यात संबंधी फैसले को भी अधिसूचित कर दिया। इसके अलावा वायदा बाजार में लगातार दूसरे दिन खाद्य तेलों और तिलहन के दामों में गिरावट दर्ज की गई। कुछ तिलहनों और आलू के वायदा कारोबार पर सरकार प्रतिबंध लगाने का विचार कर रही है। सरकार ने बासमती चावल की निर्यात दर को भी 1100 डॉलर से बढ़ाकर 1200 डॉलर कर दिया है, साथ ही मक्खन-देसी घी पर आयात शुल्क को भी 40 से घटाकर 30 फीसदी कर दिया है।ड्ढr उधर, एशियाई विकास बैंक ने कहा कि अभी कुछ और महीनों तक महँगाई का ग्राफ बढ़ सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महँगाई पर काबू के लिए केन्द्र ने बनाई कमेटी