DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिम्स प्रबंधन के खिलाफ छात्रों ने दिया धरना, किया प्रदर्शन और कहा

एमसीआइ के निर्देश से आक्रोशित रिम्स के 2007-08 बैच के छात्रों ने प्रबंधन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। निदेशक कक्ष के समक्ष उन्होंने धरना दिया और काला बिल्ला लगाया। छात्रों का कहना था कि रिम्स प्रबंधन उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। प्रबंधन को उनके नामांकन के पहले से ही जानकारी थी कि नये सत्र के लिए एमसीआइ ने मान्यता समाप्त कर दी है। बावजूद इसके रिम्स में नामांकन हुआ। इससे 0 छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। छात्रों ने एमसीआइ के पत्रों की प्रतिलिपि दिखाते हुए कहा कि सात मई 2007 को ही एमसीआइ ने रिम्स को नामांकन नहीं लेने का निर्देश दिया था। पत्र में यह भी स्पष्ट है कि 6.7.06 और 24.1.07 को भी एमसीआइ ने रिम्स द्वारा निर्देशों के अनुपालन के बारे में जानकारी मांगी थी। बावजूद इसके प्रबंधन ने निर्देशों को गंभीरता से नहीं लिया। फलस्वरूप सात मई 2007 को एमसीआइ ने मेडिकल कौंसिल की धारा 1े तहत कार्रवाई करते हुए सत्र 2007-08 में नामांकन लेने पर रोक लगा दी। इस बात को प्रबंधन सात माह तक छुपाये रखा।ड्ढr आज बैठक करेंगे छात्र : विवेक और प्रदीप ने बताया कि आगे की रणनीति तय करने के लिए 2007-08 बैच के छात्र गुरुवार को बैठक करेंगे। इसमें आंदोलन की रणनीति भी तय की जायेगी।ड्ढr शिक्षकों की कमी से जेडीयू नाराजड्ढr रिम्स जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन ने चिकित्सकों की कमी पर नाराजगी व्यक्त की है। संघ के डॉ अभिषेक मुंडू और डॉ पुनीत ने कहा कि पहले यहां 180 सीटें थी, लेकिन शिक्षकों की कमी के कारण घट कर 0 रह गयीं। 0 छात्रों के लिए भी यहां शिक्षक कम हैं, लेकिन प्रबंधन अब 150 सीटों के लिए दौड़ लगा रहा है। मान्यता समाप्त होने के लिए पूरी तरह रिम्स प्रबंधन दोषी है। मान्यता समाप्त होने की सूचना नौ माह छुपाये रखना भी अपराध है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रिम्स प्रबंधन के खिलाफ छात्रों ने दिया धरना, किया प्रदर्शन और कहा