अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सभा के माध्यम से ही राशि खर्च कर सकेंगे काउंसिलर

नगर निगम में चुने गये एक्ट में पार्षदों को राशि खर्च करने का स्वतंत्र अधिकार नहीं है। इसके लिए उन्हें सभा करनी होगी। धारा 67 के तहत पार्षदों को यह अधिकार दिया गया है कि एक तिहाई पार्षद सभा कर निर्णय ले सकते हैं। पार्षद सरकार या नगर निगम से समय-समय पर सड़कों, पुलों, तालाबों, घाटों, कुओं, नालों, शौचालय आदि की मरम्मत और सफाई करवाने के लिए राशि की मांग कर सकते हैं।ड्ढr पार्षदों के कार्य क्षेत्र में सड़को, पुलों, घाटों, नालों, शौचालयों आदि का निर्माण और सफाई करना आता है। पार्क बनाने के लिए राशि की मांग कर सकते हैं। वार्ड पार्षद अपने वार्ड क्षेत्रों में पेंड़ लगाने और उसकी रक्षा करने के लिए सरकार या नगर निगम से राशि की मांग कर सकते हैं। छात्रवृत्ति देने का प्रस्ताव, चिकित्सालयों, औषधालयों, कुष्ठालयों, अनाथालयों और धर्मशालाओं को सहायता देने की अनुशंसा कर सकते हैंष इनके लिए निर्माण कार्य करा सकते हैं। टीका लगानेवालों को नियुक्त करने और टीका लगाने की प्रथा बढ़ाने के लिए पार्षद प्रस्ताव बैठक में ला सकते हैं।ड्ढr अपने नगर निगम क्षेत्र में स्वास्थ्य अफसरों, महिला चिक्ितसकों की नियुक्ित, संक्रामक रोगों को रोकने के लिए पशु चिकित्सालय बनवाने, हानिकारक जानवरों या लावारिस कुत्तों को मरवाने के लिए राशि की मांग कर सकते हैं। नगर निगम क्षेत्र में बाजार स्थापित करने और बनाये रखने, दूध का कारखाना स्थापित करने और दूध मिलने के स्थान का निर्धारण करने, नि:शुल्क पुस्तकालयों की स्थापना करने, मेला और शिल्प प्रदर्शनी कराने, आपदा के समय या विपत्ति के समय सहायता देने के लिए राशि देने का प्रस्ताव बैठक में ला सकते हैं। बेहतर कार्य करनेवाले कर्मचारी या आम आदमी को पुरस्कृत करने के लिए पार्षद राशि की मांग कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सभा के माध्यम से ही राशि खर्च कर सकेंगे काउंसिलर