अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विस्फोट में ११ जवान घायल

हजारीबाग के विष्णुगढ़ थाना क्षेत्र की बनासो-चानो पक्की सड़क पर नक्सलियों ने बुधवार की दोपहर सवा बारह बजे बारूदी विस्फोट कर पुलिस की एंटी लैंड माइन गाड़ी को उड़ा दिया। इस पर सवार सीआरपीएफ-एसटीएफ के दस जवान, एक चौकीदार और दो ग्रामीण गंभीर रूप से जघ्मी हो गये। घायलों में से छह को हजारीबाग सदर अस्पताल लाया गया है। घटना के बाद नक्सलियों की धर-पकड़ के लिए आसपास के जिलों की पुलिस छापामारी कर रही है।ड्ढr बताते चलें कि मंगलवार को गढ़वा में पुलिस ने आठ नक्सलियों को मुठभेड़ में मार गिराया था। दूसरी तरफ बोकारो पुलिस ने नक्सलियों के ठिकाने पर छापा मार 83 लैंडमाइंस बरामद की, तो पुलिस की तारीफ हुई। इसी से बौखलाये नक्सलियों ने जवाबी कार्रवाई में घटना को अंजाम दिया। विष्णुगढ़ थानाप्रभारी अमरनाथ ठाकुर समेत सीआरपीएफ के जवान चार वाहनों पर सवार बारूदी सुरंग की टोह ले वापस विष्णुगढ़ लौट रहे थे।ड्ढr वाहन पर सीआरपीएफ तथा एसटीएफ के जवान सवार थे, जबकि तीन अन्य वाहनों पर एसटीएफ, सीआरपीएफ और विष्णुगढ़ थाने के अन्य जवान थे। पुलिस के तीन वाहनों ने नावाटांड़ से विष्णुगढ़ वापसी के लिए दूसरे रास्ते को चुना, जबक लैड माइंस वाहन पक्की सड़क होते हुए विष्णुगढ़ लौट रहा था।विष्णुगढ़ पुलिस को सूचना मिली थी कि गालहोबार और चानो में नक्सलियों ने लैंडमाइंस बिछायी है। थाना प्रभारी अमरनाथ ठाकुर और सीआरपीएफ इंस्पेक्टर की अगुवाई में पुलिस मौके पर रवाना हुई थी। इलाके में छापामारी कर लौट रही पुलिस नक्सलियों के बिछाये जाल में फंस गयी। उग्रवादियों ने सड़क पर एक पुलिया में पहले से लगाकर रखी गयी लैंडमाइंस का विस्फोट करा दिया। विस्फोट इतना जोरदार था कि इसकी चपेट में आकर लैंड माइनप्रूफ वाहन क्षतिग्रस्त हो गया। सड़क से गुजर रहा एक स्थानीय ग्रामीण और उसकी बच्ची भी विस्फोट की चपेट में आ गयी। घटना की सूचना मिलते ही विष्णुगढ़ पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को इलाज के लिए तत्काल हजारीबाग लाया गया। क्षतिग्रस्त वाहन को भी हजारीबाग लाया गया है। घायलों के नामड्ढr जयशंकर सिंह, भोला राम, प्रेम नाथ , मो. युसूफ , विनोद कुमार, जहूर आजमी, चंद्रशेखर पाल, दास, सिकंदर लाल, विनय कुमार, मौजी लाल, जयलाल सिंह, पूजा कुमारी। निरंजन मांझी ने दिया घटना को अंजामड्ढr हजारीबाग । विष्णुगढ़ थाना क्षेत्र के बनासो में सीआरपीएफ के जवानों को उड़ाने की घटना के पीछे जिस नक्सली को मास्टरमाइंड बताया जा रहा, वह निरंजन मांझी है। छापामारी के लिए गयी पुलिस को जाल में फांसने के लिए उसने अकेले ही इस घटना को अंजाम दिया। एसपी प्रवीण सिंह ने बताया कि जहां विस्फोट की हुआ, वह भीड़भाड़ वाला इलाका है। पुलिस को यह सूचना थी कि जिले में उग्रवादियों ने काफी संख्या में सड़कों पर लैंड माइंस बिछायी है। इसी सूचना पर सीआरपीएफ और एसटीएफ के जवान वहां गये थे। वाहन जैसे ही एक पुलिया पर से गुजरा, वैसे ही धमाका हुआ। एसपी ने कहा कि घटना के बाद उग्रवादियों की धरपकड़ के लिए आसपास के इलाके में छापामारी अभियान चलाया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विस्फोट में ११ जवान घायल