अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विदेशी राजनयिकों के लिए देसी विवि.बंद

ेंद्र ने देश के विश्वविद्यालयों व उच्च शिक्षा संस्थानों को उनके यहां पढ़ रहे विदेशी राजनयिकों के प्रवेश को तत्काल प्रभाव से रद्द करने का निर्देश दिया है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की ओर से उच्च शिक्षण संस्थाओं के नाम पिछले हफ्ते जारी एक आदेश में कहा गया, ‘यदि कोई विदेशी राजनयिक देश की किसी उच्च शिक्षण संस्था में पढ़ना चाहता है तो उसे छात्र वीसा पर प्रवेश लेना होगा।’ यूजीसी के एक प्रवक्ता ने बताया कि उन्हें विदेश मंत्रालय की ओर से वीजा कानून का सख्ती से पालन करने के निर्देश मिले हैं। यह फैसला फरवरी में विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में लिया गया। मंत्रालय को शिकायतें मिल रहीं थी कि राजनय के अलावा कामकाजी या पत्रकार वीसा पर कई विदेशी नागरिक भारत में प्रवास काल को बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालयों में प्रवेश ले रहे हैं। कई राजनयिकों और उनके रिश्तेदारों ने भाषा या पीएचडी. के नाम पर इग्नू या जेएनयू में एडमिशन लिया है। सूत्रों के मुताबिक दो विश्वविद्यालयों की ओर से शिकायत मिली है कि उनके यहां राजनयिक वीसा पर पढ़ाई कर रहे कुछ विदेशी छात्र प्रतिबंधित पदार्थो की बिक्री सहित कई गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त पाए गए। प्रशासन को कूटनीतिक सुरक्षा प्राप्त होने के कारण उन पर कानूनी कार्रवाई करने में मुश्किल आती है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विदेशी राजनयिकों के लिए देसी विवि.बंद