DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि के विकास को रोड मैप के अनुसार काम शुरू

राज्य सरकार ने कृषि विकास के लिए बनाए गए रोड मैप के अनुसार काम करना शुरू कर दिया है। रोड मैप में हर प्रखंड में एक गांव को बीज ग्राम और एक को जैविक ग्राम के रूप में विकसित करने की योजना को सवर्ोच्च प्राथमिकता दी गई है।ड्ढr ड्ढr कृषि विभाग के प्रधान सचिव एनएस माधवन ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों को पत्र देकर इस योजना को सफल बनाने की जिम्मेदारी उन पर डाली है। पत्र के साथ बमेती द्वारा विकसित मॉडल को भी भेजा गया है। श्री माधवन के अनुसार इसके लिए गांवों का चयन जिलों में कार्यरत ‘आत्मा’ करेगी। चुने गए गांवों के किसानों को प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी कृषि विज्ञान कन्द्रों की होगी। उन्हांेने पत्र में जिलाधिकारियों को इस कार्यक्रम में विशेष रुचि लेकर सफल बनाने तथा इसे सवर्ोच्च प्राथमिकता देने को कहा है।ड्ढr ड्ढr इसके अलावा उसके मूल्यांकन की जिम्मेदारी भी उन्हीं की होगी। जिला कृषि पदाधिकारी और जिला उद्यान पदाधिकारी चुने गए गांवों के किसानों को बीज, बर्मी कंपोस्ट, नैपेड कंपोस्ट, जैविक खेती आईपीएम सहित किसान हित की सभी योजनाआें की जानकारी देंगे और उनको अनुदान उपलब्ध कराएंगे। सरकार ने चालू वर्ष को कृषि वर्ष घोषित किया है और बीज तथा जैविक खाद के मामले में राज्य को आत्मनिर्भर बनाने के लिए यह योजना बनाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कृषि के विकास को रोड मैप के अनुसार काम शुरू