Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिग बी भड़के तो बाल ठाकरे झुके

बिग बी भड़के तो बाल ठाकरे झुके

लाइव हिन्दुस्तान टीम
Sun, 15 Mar 2009 01:00 PM
 बिग बी भड़के तो बाल ठाकरे झुके

भूमिपुत्रों के बहाने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के बाद अब शिवसेना ने भी महानायक अमिताभ बच्चन पर निशाना साध लिया है। शिवसेना के मुखपत्र सामना ने साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत का सहारा लेकर बिग बी के महाराष्ट्र प्रेम पर सवाल खड़े किए हैं। लेकिन शिवसेना के इस निशाने से बिग बी न सिर्फ आहत हुए बल्कि वह भड़के भी हैं। उनकी वेदना को महसूस करते हुए शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे झुके और सफाई में कहा कि अमिताभ उनके प्यारे हैं और वह हमेशाप्यारे रहेंगे। शनिवार को ‘सामना’ ने रजनीकांत खाल्ल्या मिठाला जागला (रजनीकांत ने नमक का कर्ज अदा किया) शीर्षक से प्रकाशित खबर में स्पष्ट किया है कि बिग बी ने रजनीकांत की तरह अपनी कर्मभूमि महाराष्ट्र के प्रति नमक का कर्ज नहीं चुकाया है।ड्ढr ड्ढr हालांकि इस तरह की खबर पर बिग बी ने अपनी प्रतिक्रिया सीधे तौर पर नहीं दी है लेकिन उन्होंने अपरोक्ष रूप से शिवसेना पर भड़कते हुए कहा कि इस तरह की बात वही लोग करते हैं जिनको उनके किए कामों के बारे में पता नहीं है। संयोग से बिग बी शनिवार को मुंबई में ही थे और वह मुंबई ट्रैफिक पुलिस के नो होंकिंग डे का उद्घाटन कर रहे थे। यहां पर मीडिया ने उनसे जब सवाल किया तो उन्होंने कहा कि जब आपको मेरे किए कामों के बारे में पता नहीं है तो यह मेरे लिए बेइंसाफी है। उधर मीडिया में इसे मुद्दा बनते देख शिवसेना में भी खलबली मच गई। शिवसेना को अपने बचाव में सफाई देने के लिए आगे आना पड़ा। शिवसेना ने कहा कि सामना की खबर का गलत अर्थ निकाला गया है। इलेक्ट्रानिक मीडिया ने इसे तिल का ताड़ बनाकर पेश किया है।ड्ढr ड्ढr शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे को मीडिया में बयान जारी करना पड़ा, जिसमें उन्होंने स्पष्ट किया कि बिग बी उनके पारिवारिक मित्र हैं और उनके रिश्ते मजबूत हैं। इधर सामना के कार्यकारी सम्पादक और सांसद संजय राऊत ने भी कहा है कि जो खबर छपी है वह सामना की अपनी नहीं है बल्कि एक समाचार एजेंसी की है। उन्होंने कहा कि अमिताभ बच्चन को किसी प्रांत की जंजीर में बांध कर नहीं रखा जा सकता है क्योंकि अब वह इतने महान हो चुके हैं कि वह पूरे देश के महानायक हैं। ठाकरे परिवार से उनका रिश्ता 40 साल पुराना है। यह पारिवारिक रिश्ता है जो टूटने वाला नहीं है। इस बीच यह चर्चा है कि जिस तरह से शिवसेना पर से ठाकरे परिवार की पकड़ कमजोर हुई है और पार्टी में बिखराव की स्थिति बनी हुई है उसी तरह से ‘सामना’ पर से भी पकड़ ढीली हुई है। ‘सामना’ के 20 साल के इतिहास में यह पहला मौका है जब उसे अपनी छपी खबर के लिए सफाई देनी पड़ रही है।

epaper

संबंधित खबरें