DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिग बैंग प्रयोग से खुलेंगे ब्रह्मांड के रहस्य

यूरोपियन सेंटर फॉर न्यूक्िलयर रिसर्च (सीईआरएन) द्वारा ब्रह्मांड की उत्पत्ति संबंधी प्रयोग को देखने के लिए 30 हजार से अधिक लोगों के आने का अनुमान है। लगभग 15 वषरे में आठ अरब डालर की राशि खर्च करके एक बड़े हैड्रान कोलाइडर की रचना की गई है। इसे जमीन से सौ मीटर नीचे 27 किमी लंबी सुरंग में स्थापित किया गया है। इस प्रयोग द्वारा यह पता लगाने की कोशिश की जाएगी कि महाविस्फोट के बाद कैसे हमारे ब्रह्मांड का निर्माण हुआ होगा। प्रयोग के दौरान सुरंग में रखी एलएचसी में स्थित प्रोटोन प्रकाश की गति से एक दूसरे से टकराएंगे, जिससे अविश्वसनीय ऊर्जा का उत्सर्जन होगा। प्रो. मैल्काम फेयरबैर्न ने कहा कि हम अपने प्रयोग को लेकर बहुत रोमांचित हैं। यह दुनिया में अपनी तरह का पहला प्रयोग है और इससे हमें अंतरिक्ष के बारे में काफी चीजें पता चलेंगी। उधर हवाई के दो वैज्ञानिकों का कहना है कि इससे धरती और ब्रह्मांड दोनों के अस्तित्व को खतरा है। सीईआरएन के वैज्ञानिकों ने इस संभावना को पूरी तरह से नकार दिया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिग बैंग प्रयोग से खुलेंगे ब्रह्मांड के रहस्य