DA Image
27 जनवरी, 2020|10:01|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमिश्नर और डीएम रखेंगे महँगाई पर नजर

राज्य सरकार ने समस्त मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों को प्रदेश में निरन्तर बढ़ती महँगाई पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए हैं।ड्ढr आवश्यक वस्तुओं के दामों में बढ़ोत्तरी पर राज्य सरकार ने गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए अधिकारियों से कहा है कि इस पर तत्काल नियंत्रण करें और इसके पीछे के कारणों पर लगातार नजर रखें। खासतौर पर आम उपयोग की वस्तुओं के मूल्यों पर कड़ी निगाह रखी जाए। अधिकारियों से यह भी सुनिश्चित करने को कहा गया है कि व्यापारियों द्वारा वैट व्यवस्था के तहत सही कर की वसूली की जा रही है और ग्राहकों को कैश मेमो जारी किया जा रहा है। उनसे इस बात का लगातार अनुश्रवण करने को कहा गया है कि व्यापारी निर्धारित दर से अधिक कर की वसूली न करें। जो व्यापारी अधिक वसूली कर रहे हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए।ड्ढr राज्य सरकार ने कहा है कि वैट प्रणाली में आम उपयोग की वस्तुओं-आटा, मैदा, सूजी, बेसन, गुड़, खाण्डसारी, बूरा, ज्वार, बाजरा, मक्का, जौ, दलिया, शहद, मिट्टी का तेल के लैम्प, लालटेन को कर मुक्त रखा गया है। खाद्य तेल, वनस्पति, रिफाइण्ड ऑयल, दाल, चाय, बर्तन, माचिस, होजरी, मिल्क फूड, मिठाई, नमकीन, मसाले, जैम, जेली आदि पर कर की दर में कमी की गई है। शेष खाद्यान्नों के लिए कर की दर पूर्व की व्यवस्था के बराबर रखी गई है।ड्ढr ऐसे में वैट लागू होने के बाद वस्तुओं के दाम बढ़ने की जगह घटने चाहिए। राज्य सरकार ने सभी मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि किसी भी स्तर पर कृत्रिम अभाव, जमाखोरी अथवा गलत तरीके से कर की वसूली परिलक्षित हो तो संबंधित व्यक्ित के खिलाफ सक्षम कानून के तहत कठोर कार्रवाई की जाए। ऐसे मामलों में संबंधित विभागों की प्रवर्तन इकाइयों से भी कार्रवाई कराई जाए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: कमिश्नर और डीएम रखेंगे महँगाई पर नजर