DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वैश्य रैली में एकजुटता का आह्वान

अखिल भारतीय वैश्य महारैली के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद गिरीश कुमार संघी ने वैश्य समुदाय की सभी 56 उपजातियों को एकजुट होने का आह्वान किया। उन्होंने शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि इसके बिना कोई भी समाज आगे नहीं बढ़ सकता। उन्होंने पटना में एक छात्रावास बनाने की घोषणा करते हुए कहा कि इसके लिए संगठन दो करोड़ रुपए देगा। श्री संघी रविवार को गांधी मैदान में आयोजित वैश्य महारैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंनेकहा कि समाज के लोग बैंकों के ऋण व सरकारी योजनाआें का लाभ लेकर अपनी स्थिति को मजबूत करें। एक-एक वैश्य को मजबूत बनाने को पूरा समाज मदद करने को तैयार है। राजनीतिक ताकत के लिए यह जरूरी है कि दिलेरी से चुनाव लडें़ और महिलाआें को भी इसमें आगे लाएं।ड्ढr ड्ढr समारोह को संबोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री प्रेम गुप्ता ने देश के लिए वैश्यों द्वारा किए गए त्याग की चर्चा की। उन्होंने केन्द्र में वैश्य समाज के छह लोगों के मंत्री होने की जानकारी दी तो उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राज्य में पहली बार किसी सरकार ने वैश्य समुदाय को उपमुख्यमंत्री का पद दिया है। इसके अलावा जब कभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार होगा तो वैश्य समाज को प्रतिनिधित्व मिलेगा। श्री मोदी ने कहा कि ढाई साल में जितना कुछ किया जा सकता था सरकार ने किया है। व्यापारियों ने भी इस वर्ष सात सौ करोड़ से अधिक राशि खजाने में देकर सरकार के हाथ को मजबूत किया है। राज्य से गुंडाराज समाप्त हुआ है और व्यवसायी चैन से व्यापार कर रहे हैं। साप्ताहिक बंदी की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया गया तो एक बार निबंधन करा लेने के बाद दुकानदार को जीवन भर दोबारा निबंधन कराने की आवश्यकता नहीं है। बाजार समिति के टैक्स को खत्म कर दिया गया और बटखरों की जांच शिविर लगाकर की जाती है। राज्य सभा सदस्य महेन्द्र मोहन गुप्त ने कहा कि एकजुट हुए बिना किसी भी समाज को उसका हक नहीं मिलता। सिर्फ बिहार और उत्तर प्रदेश के वैश्य एकजुट हो जाएं तो कहीं भी उनकी उपेक्षा आसान नहीं होगी। पूर्व मंत्री शंकर प्रसाद टेकरीवाल ने कहा कि राष्ट्रभक्ित और दानशीलता में आगे होने होने के बावजूद एकता के अभााव में हमें कोई नहीं पूछता। देश के हर कोने में फैले वैश्य शिक्षण संस्थाएं, धर्मशाला और अस्पतालों का निर्माण कर समाज को बहुत कुछ देते हैं। ऐसे में उचित सम्मान हमारा हक होता है। समारोह का संचालन कर रहे विधायक विजेन्द्र चौधरी ने कहा कि सरकारी खजाना हम भरते हैं, हमारे पैसे पर ही राजनीतिक दलों की रैलियां होती हैं बावजूद हम उपेक्षित रह जाते हैं। इसका एकमात्र कारण है नेतृत्व और एकजुटता का अभाव। राजनीतिक दल हमें तवज्जो नहीं देते लेकिन हर दल में कोषाध्यक्ष का पद हमारे लिए जरूर सुरक्षित रहता है। पूर्व मंत्री रमादेवी ने समाज के लिए एक अलग से राजनीतिक दल बनाने की आवश्यकता जताई।ड्ढr ड्ढr इसके पूर्व मंच पर उपस्थित समाज के विधायक और पूर्व मंत्रियों ने सामाजिक , आर्थिक, शैक्षिक और राजनीतिक उत्थान के प्रति सजग रहने की अपील की। समरोह को विधान परिषद के उपनेता गंगा प्रसाद, विधायक संजय सरावगी, विधान पार्षद समीर कुमार महासेठ, विधायक रामेश्वर प्रसाद चौरसिया, सुशील कुमार पिन्टू, हरिनारायण चौधरी, नगीना देवी, संजय गुप्ता , श्याम बिहारी, राज किशोर केशरी के अलावा डा. मदन जायसवाल, डा. जगन्नाथ गुप्ता, राज कुमार महासेठ व विजय साहू आदि ने संबोधित किया। मंच पर विधायाक गोपाल अग्रवाल, विधायक तारकिशोर प्रसाद, खुशी चंद्र गुप्ता, मदन प्रसाद वैश्य, महिला प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रमुखी देवी, हेम नारायण प्रसाद, युवा अध्यक्ष गोपाल मोर, प्रधान महासचिव अरुण केशरी, युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष तरुण कुमार आदि भी उपस्थित थे। रैली के संयोजक नंद कुमार साह ने अतिथियों का स्वागत किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वैश्य रैली में एकजुटता का आह्वान