DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजधानी में बांग्ला भाषियों का प्रदर्शन

भातीय बांग्लाभाषी महासभा के तत्वावधान में बांग्लाभाषियों ने सोमवार को राजधानी में प्रदर्शन किया। जुलूस श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल से निकलकर एक्जीबिशन रोड, स्टेशन रोड व फ्रेजर रोड होते हुए वापस लौटा। डाकबंगला चौराहा पर पत्रकारों से बातचीत में डा. दिलीप कुमार सिन्हा ने कहा कि देश की आजादी में बंगालियों की महत्पूर्ण भूमिका रही है। देश विभाजन के बाद बंगला शरणार्थियों को पुनर्वासित करने की घोषणा के बावजूद उन्हें जमीन पर मालिकाना हक नहीं दिया गया है।ड्ढr ड्ढr बिहार सहित अन्य राज्यों में स्थानीय दबंगों ने बांग्लाभाषियों की सम्पत्ति पर कब्जा कर लिया है। पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा को छोड़कर बाकी राज्यों में बंगाली अल्पसंख्यक हैं पर उन्हें मातृभाषा में शिक्षा ग्रहण करने की सुविधा नहीं दी जा रही। बांग्ला शिक्षक की नियुक्ित को अमलीजामा नहीं पहनाया जा रहा है। राजधानी में आयोजित दो दिवसीय बांग्लाभाषी महासभा का सम्मेलन अपने लक्ष्य में सफल रही है। उन्होंने बताया कि बंगालियों को जाति प्रमाण पत्र व नागरिकता प्रमाण पत्र आदि नहीं दिया जाता है। उन्होंने कहा कि अगर केंद्र और राज्य सरकार बांग्लाभाषियों की समस्याआें को दूर नहीं करेगी तो आंदोलन किया जायेगा। जुलूस में राष्ट्रीय महासचिव चंदन चटर्जी भी शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजधानी में बांग्ला भाषियों का प्रदर्शन