अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाबरी मस्जिद गिराने के पक्ष में नहीं थे आडवाणी

भारतीय जनशक्ित पार्टी अध्यक्ष और मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने मंगलवार को रहस्योद्घाटन किया कि भारतीय जनता पार्टी नेता लाल कृष्ण आडवाणी अयोध्या के बाबरी ढांचे को गिराए जाने के पक्ष में नहीं थे, बल्कि ढांचा गिरने के बाद वह तो माफी मांगना चाहते थे। गौरतलब है कि भारती भी आडवाणी के साथ 06 दिसम्बर 1ो ढांचा गिराए जाने की आरोपी हैं। भारती ने भाजपा में लौटने के सम्बन्ध में पूछे गए प्रश्न पर चुप्पी साध ली। उन्होंने कहा कि भाजपा में लौटने के लिए न तो बुलावा आया है न ही उन्होंने लौटने का मन बनाया है। भाजपा के मुसलमान प्रेम की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि यह कदम भाजपा के लिए आत्मघाती सिद्ध होगा। उसे न तो राम मिलेंगे और न ही रहीम। उन्होंने भाजपा को हिन्दुत्व के एजेन्डे पर ही चलने की सलाह दी। उमा भारती ने कहा कि कांग्रेस को हराना मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने आगामी लोकसभा चुनावों में 20 से 25 सीटों पर अपनी पार्टी के उम्मीदवारों को उतारने की भी घोषणा की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाबरी मस्जिद गिराने के पक्ष में नहीं थे आडवाणी