DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेरू के पूर्व राष्ट्रपति को 25 साल की जेल

पेरू के पूर्व राष्ट्रपति अल्बटर्ो फूजीमारो को मंगलवार को एक स्थानीय अदालत ने मानवाधिकारों के हनन के आरोप में 25 साल की कैद की सजा सुनाई। सत्तर साल के फूजीमारो लातिनी अमेरिकी देशों में ऐसे पहले निर्वाचित राष्ट्रपति होंगे, जिन्हें इंसानी हकों को छीनने के आरोप में जेल भेजा जाएगा। तीन न्यायाधीशों की एक खण्डपीठ ने उन्हें 10 से 2000 तक के शासन में सेना की एक टुकड़ी को जनसंहार के दो आदेश देने का दोषी माना। इनमें 25 लोगो की मौत हो गई थी। पेरू में पिछले दो दशक से जारी गुरिल्ला संघर्ष में लगभग 70 हजार लोग जान गंवा चुके हैं। एक समय तक देश में बेहद लोकप्रिय रहे फूजीमारो के पास अपील का अधिकार बचा हुआ है, लेकिन अदालत के इस फैसले के दूरगामी राजनीतिक महत्व उत्पन्न हो गए है। उनकी लोकप्रिय वकील पुत्री संभवत इस दिशा में कोई पहल कर सकती है और उनके पक्ष में माहौल खड़ा कर सकती है। गुरिल्ला संगठन शाइनिंग पाथ को शिकस्त देने के बाद उनका देश में सम्मान बढ़ गया था, लेकिन साल 2000 में उनके एक करीबी शख्स व्लादीमीरो मोनटीसाइनस के भ्रष्टाचार के मामले में फंसने के बाद उनकी सरकार का तख्ता पलट गया था और उन्हें जापान में शरण लेनी पड़ी थी। उन्हें बाद में चिली में गिरफ्तार करके पेरू को सौंप दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पेरू के पूर्व राष्ट्रपति को 25 साल की जेल