अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयकर छापा: 50 करोड़ की ब्लैकमनी का खुलासा

आयकर विभाग के जांच दल ने कांट्रेक्ट और स्पंज आयरन के कारोबारी एक ही परिवार के 13 ठिकानों पर छापा मार 50 करोड़ की ब्लैकमनी का खुलासा कर सनसनी फैला दी।ड्ढr ये ठिकाने झाड़ूडीह (धनबाद), बोकारो के अलावा कोलकाता, रायपुर, रायगढ़, झासुगढ़ा (उड़ीसा) में हैं। जाने-माने कांट्रेक्टर रहे बीएस अग्रवाल के तीन पुत्र परमेश्वर, परमानंद और राधाकृष्ण अग्रवाल की फैक्टरी, आवास एवं दफ्तर में दबिश के दौरान लाखों की नकदी, जेवरात के साथ 48 भूखंड और निवेश के कागजात हाथ लगे। बैंक खाते और 11 लॉकर भी सील किये गये हैं। कारोबारियों ने 18 करोड़ की ब्लैकमनी की बात ही स्वीकारी है, परंतु विभाग का दावा है कि काला धन 50 करोड़ पार कर जायेगा। विभाग ने यह कामयाबी निदेशक (अन्वेषण) एसडी झा व विस्मिता तेज और संजय कुमार के नेतृत्व में हासिल की है। छापे में इतनी बड़ी ब्लैकमनी का खुलासा राज्य का दूसरा सबसे बड़ा मामला है।इससे पूर्व बरबिल (चाईबासा) के खनन कारोबारी सीपी साव के ठिकानों पर छापामारी में 27 करोड़ का काला धन मिला था। टीम ने फर्म से जुड़े जिन प्रतिष्ठान-आवासों पर दबिश दी है, उनमें मेसर्स बीएस अग्रवाल, मेसर्स सिंघल इंटरप्राइजेज, मेसर्स सिंघल इंटरप्राइजेज. और मेसर्स बीएस स्पंज प्रा. लि. शामिल हैं। इन चारों फर्मो का मालिकाना हक बीएस अग्रवाल का था, परंतु उनके दिवगंत होने के बाद उनके तीनों पुत्र इन फर्मो को संचालित कर रहे हैं। बीएस अग्रवाल एकीकृत बिहार के सबसे बड़े कांट्रेक्टर मे से एक थे। इसके साथ इस परिवार का तीन स्पंज फैक्टरियां भी है। दो रामगढ़ हैं, जबकि एक झासुगढ़ा में है। धनबाद से ताल्लुक रखने वाला यह परिवार राज्य का सबसे बड़ा सिविल कांट्रेक्टर भी है। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आयकर छापा: 50 करोड़ की ब्लैकमनी का खुलासा