अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नई असेंबली का पहला सत्र आज, मुशर्रफ रहेंगे दूर

पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ नवनिर्वाचित नेशनल असेंबली में अपनी धुर विरोधी पार्टियों के वर्चस्व के चलते नेशनल असेंबली के पहले अधिवेशन को शायद ही संबोधित करं। सत्र गुरुवार से शुरू होने जा रहा है। मुल्क के संविधान के मुताबिक आम चुनावों के बाद या प्रत्येक संसदीय वर्ष के पहले नेशनल असेंबली और सीनेट के संयुक्त अधिवेशन को राष्ट्रपति संबोधित करते हैं लेकिन अपने संवैधिानिक दायित्व से बचने के लिए मुशर्रफ ने सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार की सलाह पर संयुक्त अधिवेशन की बजाय सिर्फ नेशनल असेंबली का ही अधिवेशन बुलाया है। गौरतलब है कि मुशर्रफ ने अपने पांच साल की हुकूमत सिर्फ एक बार पिछली सरकार के दौरान संसद को संबोधित किया था। गुरुवार को बुलाए गए नेशनल असेंबली के दो सप्ताह तक चलने वाले इस सत्र में पीपीपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार मुशर्रफ के कई फैसलों को पलट सकती है। मरहूम बेनजीर भुट्टो की हत्या की जांच संयुक्त राष्ट्र आयोग से कराने के लिए प्रस्ताव भी लाया जा सकता है, जिसे पूर्ववर्ती मुशर्रफ सरकार खारिा कर चुकी है। पीपीपी के मुख्य सचेतक और श्रममंत्री खुर्शीद शाह ने बताया कि सत्र के दौरान बर्खास्त जजों की बहाली पर कोई अंतिम फैसला हो सकेगा, यह अभी साफ नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पाक में नई असेंबली का पहला सत्र आज