class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फारबिसगंज में भीड़ पर फायरिंग, 4 घायल

लूट के मामले में मंगलवार को अररिया पुलिस द्वारा गिरफ्तार युवक की मौत पर आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस पर पथराव किया। फारबिसगंज के सैफगंज में लाश के साथ आ रही पुलिस पर उग्र भीड़ के पथराव के जवाब में पुलिस द्वारा तकरीबन आठ राउण्ड गोली चलायी गयी। इसमें चार युवक घायल हो गए। गंभीर रूप से घायल युवक मुन्ना ठाकुर को स्थानीय रफरल अस्पताल लाया गया। वहीं तीन पुलिस कर्मी भी रोड़ेबाजी में घायल हो गये। सूचना मिलते ही डीएम, एसपी घटनास्थल पर पहंचे ।ड्ढr ड्ढr डीएम ने इस घटना की जांच एक सप्ताह के अंदर पूरा करने का आश्वासन दिया। जांच का जिम्मा अररिया के एसडीओ बी मरग्यूंडी को दिया गया। डीएम ने गोली चलाने वाले दोजवानों को निलंबित कर दिया है। इधर फारबिसगंज एसडीओ अनिल कुमार तथा डीएसपी जितेन्द्र मिश्रा के नेतृत्व में बड़ी संख्या में पुलिस बल तथा सैप जवानों को घटनास्थल पर तैनात किया गया है। डीएसपी तथा एसडीओ ने दो राउण्ड पुलिस फायरिंग तथा एक के गंभीर एवं तीन के आंशिक रूप से घायल होने की पुष्टि की है। अररिया जिला पदाधिकारी इन्द्रसेन सिंह एवं पुलिस अधीक्षक मो. अली सिद्दीकी भी घटनास्थल पर पहुंचे। घायलों के नाम मुन्ना ठाकुर, शिवनाथ ठाकुर, गोपाल ठाकुर तथा मुन्ना साव बताया जाता है। मालूम हो कि मंगलवार को सैफगंज निवासी इन्द्रकांत ठाकुर को अररिया पुलिस ने लूट के एक मामले में गिरफ्तार किया था जिसकी पुलिस हिरासत में मौत हो गयी। मौत को लेकर गुस्साई भीड़ द्वारा रोड जाम कर दिया गया था। इसी बीच लाश को लाते देख लोग उग्र हो गए तथा रोड निर्माण हेतु रखे पत्थर को पुलिस पर चलाने लगे। इसके जवाब में पुलिस के एक हवलदार ने फायरिंग कर दी। एक गोली अग्रवाल कम्पनी की कालीरथ बस में इस पार से उस पार हो गयी। महा संयोग ही था कि बस में गोली किसी को नहीं लगी।ड्ढr ड्ढr घटनास्थल पर बैठे सैकड़ों पुरुष एवं महिलाओं का कहना था कि मृतक अपराधी नहीं था बल्कि वह रलवे टिकट के लिए अररिया गया हुआ था। पंजाब नम्बर की मोटरसाइकिल व ड्राइविंग लाइसेंस के अभाव में उसने पुलिस द्वारा रोकने के बाद अपनी मोटरसाइकिल नहीं रोकी जिसके कारण पुलिस ने उसे खदेड़कर पकड़ा और लुटेरा घोषित कर दिया। घटनास्थल पर बासुदेव ठाकुर, गगन ठाकुर, सोनु राय, विनोद यादव, विजय साह, सुदामा देवी, उमदा देवी (मृतक की मां), जगदीश प्रसाद साह (मुखिया), अनवर राज, संजय सिन्हा, उप प्रमुख प्रदीप मेहता, सत्यनारायण यादव समेत हाारों लोग उपस्थित थे। इधर रफरल अस्पताल में घायल सैप जवान अभय कुमार तथा पुलिस जमादार डी.के. सिंह ने भी कहा कि जान बचाने के लिए पुलिस को गोली चलानी पड़ी। समाचार प्रेषण तक रानीगंज, फारबिसगंज मार्ग अवरूद्ध है तथा सैकड़ों वाहन फंसे पड़े है। हाारों की संख्या में ग्रामीण अपनी मांगों के समर्थन में खड़े होकर सरकार तथा पुलिस विरोधी नार लगा रहे हैं। प्रदर्शनकारी दोषी पुलिसकर्मी को निलंबित करने, मुकदमा चलाने व गिरफ्तार करने,परिानों को मुआवजा समेत सरकारी नौकरी देने की मांग कर रहे हैं। राजनेताओं का भी घटनास्थल पर आवाजाही शुरू हो गयी है। दंडाधिकारी के रूप में नरपतगंज बीडीओ अशोक तिवारी भी घटनास्थल पर जमे हुए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फारबिसगंज में भीड़ पर फायरिंग, 4 घायल