अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रीन पार्क पर भारत आर-पार की लड़ाई को तैयार

डिग्री तापमान के बावजूद गंगा का किनारा होने की वजह से खिलाड़ियों को ग्रीनपार्क स्टेडियम में गर्मी ज्यादा परशान नहीं कर रही है। हल्की-हल्की हवा भी चल रही। तटीय छोर से हवा का दबाव थोड़ा बढ़ रहा है। उम्मीद है कि मौसम इस मैच में भारत के लिए बाधा उत्पन्न नहीं करगा। लेकिन भारतीय ड्रेसिंग रूप में कप्तान की फिटनेस अभी भी समस्या बनी हुई है। मोटेरा में पारी और 0 रनों की हार से बौखलाई टीम इंडिया शुक्रवार से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुरू हो रहे तीसर व निणार्यक टेस्ट में हिसाब बराबर करने के लिए उतरेगी। अभी तक यह तय नहीं हो सका है कि इस अति महत्वपूर्ण मैच में उसे अपने कप्तान की सेवाएँ मिल पाएँगी या नहीं। भारत यहाँ जीत हासिल कर लेता है, तो घर में ही सिरीज हारने की शर्म से बच जाएगा। लेकिन चूकने पर पयूचर कप मेहमानों को सौंपना पड़ेगा। कुम्बले की फिटनेस प्रॉब्लम ने टीम इंडिया के समीकरण उलझा दिए हैं। विकेट जम्बो और उनके साथियों के लिए बनाई गई है। अब यदि कुम्बले नहीं खेल पाते हैं, तो थिंक टैंक को अपने दूसर प्लान पर जाना होगा। लेकिन सिरीज में हालात और जम्बो के फाइट स्वभाव को देखते हुए तो यही माना जा रहा है कि कुम्बले पूरी तरह फिट न होने के बावजूद यहाँ खेलना चाहते हैं। सूत्रों के अनुसार कुम्बले सिरीज में 0-1 से पिछड़ रही टीम इंडिया का दबाव नए कप्तान के कंधों पर डालकर स्थिति को और नहीं बिगड़ना चाहते। भारत की चिन्ता बल्लेबाजी को लेकर भी है। चेन्नै में तिहरा शतक लगाने वाले वीरन्द्र सहवाग और वसीम जाफर से भारत यहाँ अच्छी शुरुआत की आस लगा हैं। इसके अलावा राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण के साथ सौरभ गांगुली और महेन्द्र सिंह धौनी पर मिडिल आर्डर को मजबूत करने की जिम्मेदारी है। लेकिन दिक्कत यह है कि इस विकेट पर बल्लेबाजी करना बहुत आसान नहीं हागेा। अच्छी खबर यह है कि तेज गेंदबाज ईशान्त शर्मा और एस. श्रीसंथ ने फिटनेस टेस्ट पास कर लिया है। सुबह नेट पर जम्बो ने सिर्फ तीन ओवर ही गेंदबाजी की। इसके बाद वह फीजियो पॉल क्लोज के पास जाकर छतरी के नीचे बैठ गए। ईशान्त शर्मा पर भी ज्यादा बोझ नहीं डाला गया, जबकि पीयूष चावला से आज भी लम्बा स्पेल करवाया गया। कप्तान ने टीम कॉम्बिनेशन के मामले में अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं लेकिन उनके कैम्प से जो संकेत मिल रहे हैं, वह यही हैं कि थिंक टैंक अब भी इसी उधेड़बुन में है कि टर्निग ट्रैक पर तीन स्पिनरों के साथ उतरं या युवराज सिंह को शामिल कर तीसर स्पिनर का काम लिया जाए। इससे बल्लेबाजी में और गहराई हो जाएगी। ईशान्त यदि खेलते हैं, तो उनके साथी के रूप में कप्तान किसे तरजीह देंगे, अभी तय नहीं है। लेकिन इरफान पठान को नेट पर ज्यादा समय देते देख कर तो यही लग रहा है कि कुम्बले बल्लेबाजी को मजबूत करने के लिए इस आलराउंडर को एकादश में बरकरार रखना चाहेंगे। ऐसे में श्रीसंथ को बाहर बैठना पड़ सकता है। सुबह नेट करने से पूर्व गेंदबाजी कोच वेंकटेश प्रसाद ने लेगी पीयूष चावला के साथ विकेट पर काफी समय बिताया। उन्होंने विकेट पर पड़े क्रेक्स पर भी उनसे चर्चा की। संकेत तो यही मिल रहे हैं कि यदि कुम्बले फिट नहीं हाते हैं तो यूपी के इस गेंदबाज को अपने घरलू विकेट पर खेलने का मौका मिल सकता है। यदि कुम्बले नहीं खेलते हैं, तो इस सिरीज में अब तक सर्वाधिक 12 विकेट ले चुके भज्जी पर स्पिन अटैक की अगुवाई करने का दायित्व होगा। यहाँ के विकेट के बार में कहा जा रहा है कि पहली पारी के बाद ही यह स्पिनर फेंड्रली हो जाएगा। दूसरी ओर ग्रीम स्मिथ की टीम भी सिरीज जीतने का मौका खोना नहीं चाहेगी। बल्लेबाजों की अच्छी फार्म और पिछले मैच में तेज गेंदबाजों की जबर्दस्त सफलता ने मनोवैज्ञानिक बढ़त उन्हें पहले ही दिला दी है। सीरीज में 12 विकेट ले चुके डेल स्टेन भारतीय बल्लेबाजों के लिए खतरा बने हुए हैं। विकेट पर सुबह गेंद को पटकने पर अच्छा बाउंस दिख रहा था। ऐसे में टॉस की भूमिका यहाँ भी महत्वपूर्ण होने जा रही है। शाम को अयास सत्र में मेहमान खिलाड़ियों की बॉडी लैंग्वेज से साफ संकेत मिल रहे थे कि विपरीत परिस्थितियों और गर्म मौसम के बावजूद वे यहाँ भी भारत को कड़ी टक्कर देने को तैयार है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत आर-पार की लड़ाई को तैयार