DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोपन्ना खेलेंगे पहला सिंगल्स, पेस-भूपति डबल्स

रोहन बोपन्ना ने घुटने की चोट के कारण चंडीगढ़ में आईटीएफ फाइनल छोड़ दिया था। मंगलवार को एमआरआई कराने के बाद उन्हें विश्राम की सलाह दी गई थी। इससे लग रहा था कि रोहन बोपन्ना शायद डेविस कप में भी न खेल सकें। लेकिन जापान के खिलाफ गुरुवार को निकाले गए ड्रा में रोहन बोपन्ना का नाम सबसे पहले मैच के लिए रखा गया। शुक्रवार से शुरू हो रहे डेविस कप एशिया ओसनिया ग्रुप एक के दूसर दौर के मुकाबले में रोहन बोपन्ना जापान के युवा स्टार केई निशिकोरी के सामने होंगे। आरके खन्ना स्टेडियम में खेले जाने वाली इस टाई में दूसरा एकल प्रकाश अमृतराज और जापान के अन्य युवा खिलाड़ी गो सोएदा में होगा। शनिवार को युगल मैच में लिएंडर पेस और महेश भूपति की ख्यातिनाम जोड़ी तकाओ सुजुकी और सातोशी इवाबुची से भिड़ेगी। रविवार को उलट एकल खेले जाएंगे। भारत और जापान में डेविस कप की यह 21वीं भिड़ंत है। अब तक के 20 मुकाबलों में भारत को जापान के खिलाफ 17-3 से बढ़त हासिल है। जापान ने 1और 10 में भारत के खिलाफ दो मुकाबले क्रमश: अमेरिका और इंग्लैंड में जीते थे। उसके बाद भारत ने अगले 73 साल के दौरान लगातार 17 मुकाबले जीते और हमेशा जापान पर हावी रहा। 2003 में भारत ने इसी स्टेडियम में जापान को 4-1 से हराया था पर अगले ही वर्ष हम जापान में जाकर 2-3 से मुकाबला हार गए थे। अबकी बार जापान पूरी तैयारी के साथ आया है। उन्होंने भारतीय परिस्थितियों के अनुकूल वातावरण कायम करके गहन प्रशिक्षण लिया है। जापान की ताकत उनके युवा खिलाड़ी हैं जिन पर कोच ईजी ताकोची को पूरा विश्वास है कि वे टीम को जीत दिलाकर विश्व वर्ग के प्ले आफ में ले जाएंगे। डेलरे बीच में पहला एटीपी खिताब जीतने के बाद 18 वर्षीय केई निशिकोरी दुनिया के 120वें नम्बर के खिलाड़ी बन गए हैं। इधर उनके विरुद्ध उतरने वाले बोपन्ना की रैंकिंग 325 है। शुक्रवार को जब दोनों आमने सामने होंगे तो बोपन्ना को अपने डेविस कप अनुभव, देशी दर्शक, घासीली सतह और तपती गर्मी का अधिक भरोसा होगा। चोट सही होने के बावजूद बोपन्ना का कमजोर पक्ष है कि वे पिछले दो दिन अयास नहीं कर पाए हैं जबकि निशिकोरी जमकर अयास कर रहे हैं। बोपन्ना की चोट के बावजूद 48-21 का डेविस कप रिकार्ड रखने वाले 35 वर्षीय पेस ने एकल में न खेलने का मन बनाया है। उनका मानना है कि पांच सेट का एकल मुकाबला खेलने के लिए अयास बहुत जरूरी है। उन्होंने डबल्स के लिए तो काफी अयास किया है पर बहुत समय से एकल नहीं खेला है। भारत की पेस - भूपति की विश्व प्रसिद्ध जोड़ी 2008 में पहली बार एक साथ कोर्ट में उतरगी। हालांकि ये दोनों खिलाड़ी एटीपी में अलग अलग खेल रहे हैं पर इस जोड़ी को सामने देखकर कोई भी टेनिस जोड़ी खुद का आधा हारा तो पहले से मान कर चलने लगती है। इनके पास बहुत अधिक अनुभव है और दोनों की कैमेस्ट्री ऐसी है जिसे थोड़े समय में भुलाए नहीं भूला जा सकता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बोपन्ना खेलेंगे पहला सिंगल्स, पेस-भूपति डबल्स