अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भय के माहौल में परीक्षा शुरू

डर के साये में एक बार फिर पटना विवि की परीक्षाएं शुरू हो गयीं। परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा बल नहीं पहुंचने के कारण शिक्षक काफी आतंकित थे। वहीं परीक्षार्थियों के चेहरे पर भी दहशत देखी जा सकती थी। परीक्षा के दौरान केंद्रों पर किसी प्रकार की अप्रिय घटना नहीं घटी। पूटा ने परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा बलों की प्रतिनियुक्ित नहीं हो पाने को काफी संवेदनशील बताते हुए विवि प्रशासन से फिर से गुहार लगाए जाने की बात दोहराई। वहीं परीक्षा शुरू होने के बाद प्रति कुलपति प्रो. एसआई अहसन दल-बल के साथ साइंस कॉलेज केंद्र पर परीक्षा का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने अन्य केंद्रों पर भी परीक्षा का जायजा लिया।ड्ढr ड्ढr मंगलवार को साइंस कॉलेज केंद्र पर भौतिकी के शिक्षक डा. अमरेंद्र नारायण के साथ हुई मारपीट की घटना के बाद पूटा ने शिक्षकों की हड़ताल का निर्णय ले लिया। इस कारण बुधवार को होनेवाली सभी परीक्षाओं को स्थगित कर गया दिया था। बुधवार को प्रति कुलपति की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद पूटा ने हड़ताल को वापस लेने का निर्णय लिया गया। इसके बाद गुरुवार से सभी परीक्षाएं फिर से शुरू हुईं। परीक्षा के दौरान सभी परीक्षा केंद्रों पर काफी सख्ती बरती गयी। हालांकि विवि प्रशासन द्वारा केंद्रों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के दावों की हवा निकल गयी। दरभंगा हाउस केंद्र पर सुरक्षा बल नहीं पहुंचा।ड्ढr ड्ढr वहीं पटना कॉलेज केंद्र पर लगभग सवा घंटे विलंब से दंडाधिकारी व पुलिस के जवान पहुंचे। साइंस कॉलेज केंद्र पर भी देर से सुरक्षा बल पहुंचा। वहीं किसी भी केंद्र पर महिला आरक्षियों की तैनाती नहीं की गयी। इस संबंध में पूटा के अध्यक्ष डा. उपेंद्र किशोर सिन्हा व महासचिव डा. रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि सुरक्षा बलों की प्रतिनियुक्ित सही ढंग से करवा पाने में विवि प्रशासन एक बार फिर नाकाम रहा। इस कारण शिक्षकों में कुछ भय तो था लेकिन मोबाइल पुलिस लगातार परीक्षा के दौरान सभी केंद्रों का निरीक्षण करती रही। उन्होंने कहा कि परीक्षाओं का संचालन पूरी तरह से शिक्षकों ने ही किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भय के माहौल में परीक्षा शुरू