अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माले ने कोड़ा को घेरा मरांडी-मुंडा भी लपेटे म

भाकपा माले के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा है कि झारखंड में सत्ता गलत हाथ, दलालों, चोरों और जनविरोधी ताकतों के हाथ में है। यूपीए में हिम्मत है, तो लोकसभा के साथ विधानसभा का चुनाव भी कराये। मोरहाबादी मैदान में गुरुवार को आयोजित रैली के जरिये माले ने सरकार से हिसाब- जवाब मांगा।ड्ढr माले के नेताओं ने बाबूलाल मरांडी- अजरुन मुंडा और राज्यसभा सांसद परिमल नाथवाणी को भी लपेटा। यूपीए पर भी निशाना साधा। दीपंकर ने कहा कि लूट, भ्रष्टाचार और दमन पर सरकार को जवाब देने की हिम्मत नहीं है। लेकिन संघर्षशील ताकत जवाब देने के लिए तैयार है। नरगा, भ्रष्टाचार, महंगाई, दमन और झारखंड में खरीद-फरोख्त की राजनीति के खिलाफ माले नेता ने नवनिर्माण के लिए संघर्ष तेज करने के साथ कोड़ा सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। दीपंकर ने कहा कि सत्ताधारी मौज - मस्ती और खरीद- फरोख्त की राजनीति कर रहे हैं। दूसरी ओर संघर्षशील ताकतों की राजनीति है। इसे मंजिल तक पहुंचाना है। कोड़ा सरकार में हिसाब- जवाब देने की हिम्मत नहीं। कांग्रेस, झामुमो राजद की दोहरी राजनीति नौटंकी और बकवास है। उन्होंने सरकार से समर्थन वापस लेते हुए विधानसभा चुनाव कराने की चुनौती दी। कहा झामुमो रास्ते से भटक गया है। कुछ बिक गये हैं और कुछ थक गये हैं। सरकार से समर्थन वापसी की कांग्रेस की धमकी कोरा बकवास है।ड्ढr रास चुनाव में झारखंड से नुमाइंदगी करने के लिए यूपीए को कोई किसान-मजदूर , आदिवासी नेता नहीं मिला। मुंकेश अंबानी की कंपनी के डायरक्टर नाथवाणी को मरांडी, गुरुाी, सोनिया के लोगों ने जिताया। यही संघीय ढांचा है। चोर दरवाजे से घुसने की राजनीति जोर पकड़ती जा रही है। माले नेता ने ललकार लगायी: क्या जिंदल मित्तल, अंबानी के लिए झारखंड बना है। महंगाई, खनिज नीति, मजदूरी, नरगा के सवाल पर केंद्र सरकार पर जमकर बरसे। कार्यक्रम का संचालन राज्य सचिव शुभेंदु सेन ने किया। रैली में 16 राजनीतिक प्रस्ताव भी पारित किये गये। पूर्व सांसद जयंत रंगपी, बगोदर के विधायक विनोद सिंह समेत केंद्रीय व राज्य कमेटी के कई नेता रैली में बोले। ें ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माले ने कोड़ा को घेरा मरांडी-मुंडा भी लपेटे म