अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस ने पांच नक्सलियों को मारा

झारखंड-बिहार की सीमा पर धनगाई-बेंगतारी गांव के समीप हिरुआ नदी तट पर पुलिस और नक्सलियों के बीच गुरुवार को घंटों गोलीबारी हुई। दोनों ओर से करीब दो हजार राउंड गोलियां चलीं। इसमें चार-पांच नक्सलियों के मारे जाने की चर्चा है, लेकिन मात्र एक ही नक्सली की लाश बरामद की जा सकी है। मृत नक्सली के पास से कुछ जीवित कारतूस मिले हैं। घायल साथियों को उग्रवादी ले भागने में सफल रहे। एसपी डॉ परेश सक्सेना ने बाराचट्टी थाना पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। मारा गया नक्सली भाकपा-माओवादी सदस्य बताया जाता है। पिछले दो सप्ताह से नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ का सिलसिला जारी है। इस क्रम में दोनों राज्यों की पुलिस ने भी अभियान तेज कर दिया है। बिहार और झारखंड पुलिस संयुक्त ऑपरेशन के तहत बाराचट्टी थाने के धनगांई-बेंगातरी गांव की ओर जंगली क्षेत्र में गयी थी। बेंगातरी (हंटरगंज) गांव से जब वे लोग छापामारी कर साढ़े ग्यारह बजे लौट रहे थे, तो हिरुआ नदी के पास तीन ओर से घेर कर नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। सीआरपीएफ, एसटीएफ और पुलिस के जवानों ने मोरचा संभालकर जवाबी फायरिंग की। दोनों ओर से करीब तीन घंटे तक जबरदस्त फायरिंग हुई। पुलिसकर्मियों ने बताया कि जब कुछ नक्सलियों को गोली लगी और एक युवक की लाश को कब्जे में कर लिया गया, तो नक्सली जंगल की ओर फायरिंग करते हुए भाग गये। नक्सली गांव की ओट में छुपकर अत्याधुनिक हथियारों से फायरिंग कर रहे थे। गांव होने की वजह से सीआरपीएफ के जवान मोर्टार का प्रयोग नहीं कर पाये। मुठभेड़ में शेरघाटी के डीएसपी बलिराम चौधरी, चतरा के डीएसपी राजीव रंजन सिंह और सीआरपीएफ 131 बटालियन के डीएसपी नवनीत कुमार झा समेत दोनों राज्यों की पुलिस तथा सीआरपीएफ के जवान शामिल थे। मुठभेड़ में मारे गये नक्सली की उम्र 25 वर्ष है, जिसकी पहचान नहीं हो सकी है। मुख्यालय डीएसपी राजवंश सिंह ने बताया कि मुठभेड़ में भाकपा-माओवादी के चार-पांच कैडरों के मार जाने की चर्चा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुलिस ने पांच नक्सलियों को मारा