अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयोग की खास निगाह इन बाहुबलियों की गतिविधियों पर

प्रदेश में लोकसभा की दो आजमगढ़ व खलीलाबाद और विधानसभा की तीन हरदोई की बिलग्राम, गोण्डा की करनैलगंज तथा गाजियाबाद की मुरादनगर सीटों के लिए शनिवार को होने वाले चुनाव के दौरान बाहुबलियों पर शिकंजा कसा रखा जाएगा। आयोग की खास निगाह इन बाहुबलियों की गतिविधियों पर रहेगी। वीडियो कैमर सारा दिन उनका पीछा करंगे और तस्वीरं कैद करेंगे। इन निर्वाचन क्षेत्रों में सबेर सात बजे से वोट डाले जाएँगे। सभी मतदान केन्द्रों पर पोलिंग पार्टियाँ पहुँच गई हैं। इन सभी सीटों पर प्रदेश के प्रमुख राजनीतिक दलों के बीच मुकाबला है।ड्ढr प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुज कुमार बिश्नोई ने बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष उपचुनाव के लिए सार प्रबंध कर लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि बाहुबलियों को केवल वोट देने के लिए घर से बाहर निकलने की अनुमति होगी। वोट डालने के बाद वे वापस सीधे अपने घर ही जाएँगे। वे अन्यत्र कहीं भी भ्रमण नहीं कर पाएँगे। उन्होंने कहा कि सभी प्रमुख प्रत्याशियों तथा बाहुबलियों की गतिविधियाँ वीडियो कैमर में कैद की जाएँगी। सभी मतदान केन्द्रों में भी व्यापक वीडियोग्राफी कराई जाएगी। बड़े पैमाने पर माइक्रो प्रक्षक भी तैनात किए गए हैं। इस उपचुनाव में सबसे रोचक संघर्ष आजमगढ़ लोकसभा क्षेत्र में हो रहा है जहाँ भाजपा के रमाकान्त, बसपा के अकबर अहमद डम्पी, सपा के बलराम तथा कांग्रस के एहसान खान सहित 15 प्रत्याशी मैदान में हैं। खलीलाबाद लोकसभा उपचुनाव भी पूर्वाचल के बाहुबली और पूर्व मंत्री हरिशंकर तिवारी के पुत्र भीष्मशंकर उर्फ कुशल तिवारी के बसपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में होने के कारण काफी दिलचस्प है। यहाँ सपा के भालचन्द्र यादव, भाजपा के चन्द्रशेखर पाण्डेय तथा कांग्रस के संजय जायसवाल सहित 20 उम्मीदवारों के बीच संघर्ष है। आजमगढ़ में 14 लाख 45 हजार से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करंगे। जबकि खलीलाबाद में 14 लाख 70 हजार से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करंगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आयोग की खास निगाह इन बाहुबलियों की गतिविधियों पर