DA Image
27 जनवरी, 2020|3:56|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेयजल में नाइट्रेट से बच्चों में ब्लू बेबी रोग

उत्तर बिहार में पेयजल के तमाम स्रोतों में जहरीला रासायनिक पदार्थ घुलने लगा है। आयरन के बाद अब यहां के पेयजल में नाइट्रेट मिलने की खबर से लोगों में दहशत है। शिशु रोग विशेषज्ञ डा. ब्रजमोहन ने भी कहा कि पानी में नाइट्रेट मिलने की शिकायत आ रही है। पीएच मान में भी बढ़ोत्तरी हो जाने से मुजफ्फरपुर समेत उत्तर बिहार के अधिकतर जिले का पानी क्षारीय हो गया है।ड्ढr ड्ढr पानी में नाइट्रेट की मात्रा होने से बच्चों में ब्लू बेबी रोग की आशंका बढ़ गयी है। इस पानी के सेवन से बच्चों का शरीर नीला हो जाता है। पानी के क्षारीय होने से पेट में ऐंठन के साथ दर्द की की शिकायत सामने आ रही है। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण के हालिया रिपोर्ट में जिले के पारू प्रखंड के कई सरकारी चापाकल में नाइट्रेट की मात्रा मिलने की बात कही गयी है। विभाग का मानना है कि यह मात्रा फिलहाल जहरीला नहीं है, लेकिन पानी की गुणवत्ता में लगातार आ रही गिरावट को देखते हुए विभाग सक्रिय है। नाइट्रेट की मात्रा को देखते हुए अन्य प्रखंडों के सरकारी चापाकल व कुएं की जांच की जा रही है। उधर, भूगर्भ जल सव्रेक्षण प्रमंडल ने भी अपनी रिपोर्ट में दरभंगा जिले के जाले, सिंघवाड़ा, दहोदा, मुजफ्फरपुर के मुशहरी प्रखंड के बाड़ा जगन्नाथ गांव, मोतीपुर प्रखंड के सेंदुरिया गांव तथा मीनापुर प्रखंड के खरीका महादेव गांव, वैशाली जिला के गोरौल प्रखंड के चकिया, भगवानपुर के हरवंशपुर, बिठौली, लालगंज प्रखंड के घटारो गांव, सीतामढ़ी जिला के सुरसंड, बरौली, भासर, पश्चिम चंपारण के नौतन, पूर्वी चंपारण के चकिया के रामकरण पकड़ी, मधुबनी जिला के राजनगर, जयनगर, सकरी, पण्डौल समेत अन्य क्षेत्र का पानी अधिक क्षारीय हो गया है।ड्ढr शौचालय के पास नहीं लगाएं चापाकलड्ढr मुजफ्फरपुर (का.सं.)। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण संगठन ने प्रदुषित पेयजल से बचने के लिए लोगों को आगाह किया है कि वे पेयजल के स्त्रोत को शौचालय अथवा उसके टंकी के आसपास नहीं रखें। विभाग का मानना है कि शहरीकरण के दौर में कम जमीन में घर बनाने के क्रम में लोग अक्सर शौचालय के टंकी के आसपास चापाकल अथवा बोडिंग लगा ले रहें हैं। देहाती क्षेत्रों में चापाकल के आसपास गोबर का भंडारण किया जाता है। जिससे पानी में नाइट्रेट की मात्रा बढ़ रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: पेयजल में नाइट्रेट से बच्चों में ब्लू बेबी रोग