DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पांच शिक्षामित्र व पांच प्रशिक्षु शिक्षक से बातचीत

सूबे के प्राथमिक विद्यालयों में तैनाती पाने वाले प्रशिक्षु शिक्षक व शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक बने शिक्षकों को जब मंगलवार को आशियाना में आयोजित एक समारोह में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा वेतन के चेक मिले तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

उनका कहना था कि इस पल का उन्हें बहुत समय से इंतजार था। सभी ने सपा सरकार की सराहना की। चेक पाने वाले कुछ शिक्षकों ने ‘हिन्दुस्तान’ से अपने विचार साझा किए।

पांच शिक्षामित्रों से बातचीत

कई वर्ष से इस पल का इंतजार था। कब नियमित शिक्षक बनेंगे और वेतन मिलेगा। आखिकार वो समय आ ही गया। ऐसा सिर्फ सपा सरकार में ही संभव हो सका।
                                    -अर्चना यादव लखनऊ

जीवन में पहली बार ऐसी खुशी मिली। एक बार तो यकीन ही नहीं हुआ कि वास्तव में यह सहायक अध्यापक के वेतन का चेक है। लेकिन चेक मिलने के बाद कई बार उसे देखा तब जाकर यकीन हुआ।
                                       -आदर्श बाला पाल लखनऊ

वर्ष 2012 में सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने विधान सभा चुनाव में अपने घोषणा पत्र में शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक के पद पर समायोजित करने की जो घोषणा की थी उसे पूरा किया। इसका श्रेय सिर्फ सपा सरकार को ही जाता है।
                                       -कंचन पाण्डेय लखनऊ
सहायक अध्यापक के वेतन का चेक मिलने के बाद यकीन हो गया। सपा सरकार ने शिक्षामित्रों से जो वादा किया था कि उसने उसे पूरा किया है। कई वर्ष से शिक्षामित्र के पद से पढ़ा रहे थे। इस बीच कई कोर्ट आदि से जुड़ी कई अड़चनें आयी। इसके बावजूद सपा सरकार ने सभी का समायोजन करा दिया।
                                        -सुजाता देवी लखनऊ

सपा सरकार ने जो वादा किया था, सच में आज पूरा कर दिया। सपा सरकार की जितनी तारीफ की जाए कम है। चेक पाने के बाद बहुत खुशी मिली है। वाकई जीवन में पहली बार ऐसी खुशी मिली जो जीवनभर याद रहेगी।
                                         -अर्चना शाही लखनऊ

पांच प्रशिक्षु शिक्षक से बातचीत

चार वर्ष के लम्बे अंतराल के बीच जो भी संघर्ष किया वो सब चेक मिलने के बाद उसे भूल गए। वास्तव में कई बार ऐसा लगा अब नौकरी नहीं मिलेगी। लेकिन तकदीर में नौकरी लिखी थी सो मिल गई।
                                                  -निशा हरदोई

वास्तव में आज खुशी को बयां नहीं किया जा सकता है। बेशक नियुक्ति सपा सरकार में मिली। लेकिन टीईटी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को सुप्रीम कोर्ट की सराहना करनी चाहिए कि उसने बिना किसी रुकावट के भर्ती प्रक्रिया टीईटी से जारी रखने का आदेश दिया।
                                                  -प्रियंका हंस हरदोई

प्रशिक्षु शिक्षक बनने की तमन्ना रखे चार वर्ष बाद पूरी हुई। सपा सरकार की भूमिका अहम रही। सरकार ने नियुक्ति दी और सभी को मानदेय का भुगतान भी कर दिया।
                                                  -सारिका शुक्ला उन्नाव

इन चार वर्ष में कई पल ऐसे आएं लगा शायद अब शिक्षक बनने का सपना पूरा नहीं होगा। आखिर वो पल भी आया जब नियुक्ति मिली और मानदेय का भुगतान भी हो गया।
                                                   -तंजीला तौहीर उन्नाव
चेक मिलने पर बहुत खुशी हुई। सपा सरकार में नौकरी मिलने का सौभाग्य मिला। यह और भी खुशी की बात है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने हाथों से प्रशिक्षु शिक्षकों अपने हाथों से चेक दिए हैं।
                                                    -नीलू सिंह उन्नाव

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पांच शिक्षामित्र व पांच प्रशिक्षु शिक्षक से बातचीत