अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छठव्रतियों ने डूबते सूर्य को दिया अघ्र्य

भक्ित और उमंग से सराबोर राजधानी के गंगा तटों पर शुक्रवार को डूबते सूर्य को छठव्रतियों ने अघ्र्य दिया। इसके अलावा छठव्रतियों ने घरों की छतों व तालाबों में भी भगवान भाष्कर को अघ्र्य अर्पित किया। दूर-दराज के ग्रामीण इलाकों से आये छठव्रतियों ने गंगा के पावन तटों पर अघ्र्य देकर भगवान भाष्कर से जीवन में सुख-शांति की कामना की। समाहरणालय घाट, अंटा घाट, कृष्णा घाट, काली घाट व महेन्द्रू घाट समेत अन्य घाटों पर अघ्र्य दिया गया। छठव्रतियों द्वारा गाये जा रहे गीतों से घाटों का बातावरण गुंजायमान रहा।ड्ढr ड्ढr घाटों पर आस्था की पराकाष्ठा दिखायी पड़ी। राजधानी में इस मौके पर अद्भुद नजारा था। शुक्रवार की दोपहर बाद से ही व्रतियों के साथ लोगों का हुजूम माथे पर दउरा उठाए गंगा घाटों की ओर चला आ रहा था। क्या आम क्या खास सभी की भक्ित इस मौके पर देखने लायक थी। हालांकि तेज धूप से व्रतियों को काफी परशानी का सामना करना पड़ा। घाट पर ही कई व्रतियों की तबियत अचानक खराब हो गई। दूसरी तरफ घाटों पर सुरक्षा के इंतजाम नहीं दिखाई पड़े। हालांकि स्थानीय लोगों ने गंगा तटों पर जाने वाले लिंक पथों को साफ-सुथरा कर उसपर जल का छिड़काव किया था। व्रतियों की लोगों ने सहयोग कर इस पर्व की सामुहिकता से परिचित कराया। व्रतियों के साथ ही पर्व को देखने और डूबते सूर्य को नमन करने वालों की भी अच्छी तादाद गंगा तटों पर उमड़ी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छठव्रतियों ने डूबते सूर्य को दिया अघ्र्य