DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकोचाी सिंड्रोम से ग्रस्त ब्रिटेन के अधेड़

्रांसीसी राष्ट्रपति निकोलस सरकोी अपने चिरयौवनता के कारण अधेड़ लोगों के आदर्श बन गये हैं। युवा प्रेमिकाओं के साथ जोड़ा बनाने वाले ऐसे अधेड़ों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है और ऐसे लेाग अपनी ढलती उम्र को छिपाने और युवा दिखने के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी का सहारा ले रहे हैं। अधेड़ों मे इस तरह की प्रवृत्ति को ‘सरकोी सिंड्रगेशन’ कहा जाने लगा है, जिसे 53 वर्षीय राष्ट्रपति ने अपनी युवा प्रेमिका और पूर्व मॉडल कार्ला ब्रून से शादी के दौरान अपनाया था। हालांकि शादी के पहले या शादी के बाद सरकोी ने चेहर की कोई सर्जरी आदि नहीं करवाई थी। डेली मेल की एक रिपोर्ट के अनुसार, विशेषज्ञों को मानना है कि उनका प्रभाव लोगों में बढ़ता जा रहा है। हर्ले मेडिकल ग्रुप के निदेशक लिज डेल कहते हैं ‘सरकोी सिंड्रोम का प्रभाव वैसे लोगों पर ज्यादा हो रहा है जो सर्जरी या बिना सर्जरी के युवा दिखने की चाहत रखते हैं। उसमें भी खासकर वैसे लोग जो दूसरी शादी करने जा रहे हैं या जिनकी प्रेमिका या मंगेतर उनसे काफी कम उम्र की है।’ हर्ले मेडिकल ग्रुप के पास आनेवाले सभी मरीाों का पांचवां हिस्सा पुरुषों का है, जिनमें से अधिकांश दूसरी शादी करने जा रहे हैं। इस ग्रुप के देश भर में 11 क्लीनिक हैं। डेल के अनुसार 35 से 55 वर्ष आयुवर्ग के पुरुष चेहर और आंखों की सर्जरी कराने के साथ-साथ बोटोक्स जसे मुखरा निखारनेवाले विकल्पों को तराीह दे रहे हैं। 40 वर्ष आयुवर्ग के पुरुषों का तो बोटोक्स पहली पसंद बन गया है। जबकि 50 से ऊपर के लोग आंख और चेहर की सर्जरी को प्राथमिकता दे रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सरकोचाी सिंड्रोम से ग्रस्त ब्रिटेन के अधेड़