DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल मंत्रालय को आया खिलाड़ियों का खयाल

अगर नए खेलमंत्री की चली तो गरीबी की मार झेल रहे पुराने खिलाड़ियों को 20 से 25 हाार रुपये की मासिक पेंशन मिल सकती है। खेल मंत्रालय देशभर के उन रिटायर्ड खिलाड़ियों की सूची तैयार करा रहा है, जो बुरी हालत में हैं। मंत्रालय ने स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई) से कहा है कि वह एक एसी विस्तृत सूची तैयार कर, जिसमें देश के उन खिलाड़ियों के नाम हों, जो कभी राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं, लेकिन अब उनकी माली हालत खराब है। नए खेलमंत्री मनोहर सिंह गिल ने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा, मेरी कोशिश होगी कि कभी राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके खिलाड़ियों को हर महीने 20 से 25 हाार रुपए जीवन जीने के लिए मिलें। उन्होंने एक दिन पहले साई के अधिकारियों से इस मसले पर एक बैठक की। मंत्री ने कहा कि क्रिकेट को छोड़ कर बाकी खेलों के पुराने खिलाड़ियों में से ज्यादातर की दशा ठीक नहीं है। येखिलाड़ी बाकी जीवन ठीक तरीके से जी सकें, खेल मंत्रालय इसकी हरसंभव कोशिश करगा। यह पूछने पर कि क्या योजनाएं हैं, मंत्री ने कहा, ‘पंजाब के मशहूर खिलाड़ी मक्खन सिंह जसे खिलाड़ियों के अनगिनत उदाहरण हैं, जिनका जीवन कष्ट और गरीबी में बीता। मुझे कोई कारण नहीं नजर आता कि हम एसे लोगों के लिए कुछ क्यों नहीं कर सकते। जरनैल सिंह, चुन्नी गोस्वामी, मेवालाल जसे फुटबॉल के नामी खिलाड़ी संकट में रहे। ये लोग अपने वक्त के महान खिलाडी़ थे, लेकिन आज उन्हें कोई नहीं पूछ रहा। यह गलत है और खेल के विकास में आड़े आता है।’ महिला एथलीटों का कल्याण भी गिल के एजेंडे में है। केरल और पंजाब समेत कई राज्यों की अनेक महिला एथलीट बिना किसी नियमित आमदनी के जीवनयापन कर रही हैं। मंत्री ने कहा कि गरीब खिलाड़ियों की सूची तैयार करते हुए यह देखा जाएगा कि वे किस स्तर पर खेल चुके हैं। इसके बाद मंत्रालय तय करगा कि उन्हें कैसी वित्तीय सहायता दी जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खेल मंत्रालय को आया खिलाड़ियों का खयाल