DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाराणसी में ‘एंग्री यंगमैन’ नजर आए योग गुरु बाबा रामदेव

योग गुरु बाबा रामदेव ने यहाँ योग शिविर के तीसर दिन साधकों को अभ्यास कराने के साथ ही संयमित आहार-विहार, खान-पान व सदाचरण पर जोर दिया। बाबा ने राष्ट्रधर्म के मुद्दे पर नागरिकों के स्वाभिमान को ललकारा तो तिब्बत के सवाल पर देश के नेतृत्व को एक बार फिर कायर व मरा हुआ करार दिया। बोले, ‘लोग कहते हैं मैं गुस्सा करता हूँ। जिस व्यक्ित में स्वाभिमान न हो, आक्रोश न हो वह मनुष्य नहीं, बल्कि मरा हुआ है।’ उन्होंने दो करोड़ बंग्लादेशियों के निष्कासन पर चुप्पी के लिए सरकार की जमकर खिंचाई की। कहा आज के नेता (कुछ को छोड़कर) कायर व डरपोक हैं। व्यापारियों की तरह शासन चला रहे हैं।ड्ढr रामदेव ने शाकाहारी बनने और विदेशी उत्पादों खास तौर पर शीतल पेयों के बहिष्कार के लिए साधकों से हाथ उठवा कर संकल्प कराया। अभ्यास सत्र में योग गुरु ने प्राणायाम-आसन का महत्व समझाया और देश के करोड़ों वर्ष प्राचीन वैभवशाली अतीत की याद दिलाई। पातंजलि योग और आयुव्रेद को आरोग्य होने का एकमात्र महामंत्र बताया तो एलोपैथ का आंशिक समर्थन भी किया। साथ ही नकली डॉक्टर, नकली दवाओं, अनावश्यक डायग्नोसिस से बचने की सलाह दी।ड्ढr राष्ट्रधर्म की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि तिब्बत पर अत्याचार को केंद्र सरकार आँख मूद कर देख रही है। चीन ने कभी हमारा भला नहीं चाहा। हमारी सेना के पास केवल डंडे थे तो चीन से नहीं डर। आज हम विश्व की महाशक्ित बनने की बात तो करते हैं, लेकिन हमारा नेतृत्व इतना कायर है कि उसके मुँह से चीन के खिलाफ एक शब्द तक नहीं फूट रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वाराणसी में ‘एंग्री यंगमैन’ नजर आए योग गुरु बाबा रामदेव