DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल में माओवादी सत्ता के करीब

नेपाल में हुए ऐतिहासिक चुनाव में माओवादी लगातार अपनी बढ़त कायम किए हुए हैं। रविवार को घोषित हुए प्रारंभिक परिणामों में सीटों में से माओवादियों की पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माओवादी) ने 48 सीटों पर जीत दर्ज की है। नेपाल के चुनाव आयोग ने रविवार को इन परिणामों की घोषणा की। अन्य इलाकों में भी जहां अभी भी गिनती जारी है वहां माओवादी बढ़त बनाए हुए हैं।ड्ढr ड्ढr कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माक्िर्सस्ट) ने 14 सीटों पर कब्जा जमाया है। अभी तक की सबसे मजबूत माने जाने वाली पार्टी नेपाली कांग्रेस मात्र 12 सीटों पर ही जीत दर्ज कर पाई है। माओवादी नेता प्रचंड ने काठमाडू की एक सीट पर दर्ज कर ली है। इन परिणामों और रूझानों क बाद अब यह लगन लगा है कि कृ षि विज्ञान मं स्नातक और स्कूल अध्यापक की नौक री छोड़ क र राजशाही क अंत और समानता की स्थापना क लिए सशस्त्र विद्रोह की शुरूआत क रन वाल माओवादी नता पुष्प क मल दहल उर्फ प्रचंड को सपना पूरा होन वाला है। माओवादियों की इस जीत स प्रधानमंत्री कोइराला क ो धक्का लगा है जो अपन खराब स्वास्थ्य क बावजूद फि र स सरकोर को नतृत्व करन की आशा लगाए हुए थे। माओवादियों की जीत को राजा ज्ञानंद्र क शासन को अंत माना जा रहा है। राजा अपन पूर्वजों क सिंहासन क ो संवैधानिक राजशाही क द्वारा बनाए रखना चाहत हैं। माओवादियों की जीत मं युवा मतदाताओं और महिलाओं को महत्वपूर्ण योगदान माना जा रहा है। युवाओं की संख्या कु ल मतदाताओं को 35 प्रतिशत हैं जबकि महिलाओं को प्रतिशत 53 है।ड्ढr नपाल क चुनावों मं सबस अधिक झटका नपाल की कम्युनिस्ट पार्टी एकीकृत माक्र्सवादी लनिनवादी (यूएमएल) को लगा है। कोठमांडू मं 1 चुनावों मं सभी सीटं जीतन वाली यूएमएल को हार को सामना करना पड़ा है। कोठमांडू की 10 मं स चार पर माओवादी विजयी हुए हैं जिनमं प्रचंड भी शामिल हैं। ललितपुर जिल की सभी तीन सीटों पर माओवादी विजयी रह हैं।ड्ढr ड्ढr बहरहाल क ोइराला सरकार स जनता को मोहभंग स्पष्ट रूप स सामन आ गया है। जहां माओवादियों क सभी मंत्री जीत चुक हैं या फि र अपन-अपन क्षेत्रों मं आग चल रह हैं वहीं नपाली कांग्रस और यूएमएल क क ई मंत्री अपन प्रतिद्वंद्वियों स पीछ चल रह हैं या उनक ो हार का सामना करना पड़ा है। यद्यपि नपाली कोंग्रस राजधानी मं छह सीटों पर विजयी रही है, लकिन दश क अन्य भागों मं उसक सूरमा धूल चाटत नजर आ रह हैं। कोइराला की पुत्री और प्रधानमंत्री कोर्यालय मं बिना विभाग की मंत्री सुजाता तराई क संसुरी जिल मं तीसर स्थान पर ही पहुंच सकी। कोइराला क गृह जनपद मोरंग मं माओवादियों न जीत हासिल की है। यूएमएल प्रमुख माधव कुमार क ो माओवादियों क हाथों कोठमांडू मं अपनी हार के बाद दबाव पड़न पर इस्तीफो दना पड़ा है। अपनी जीत क बाद प्रचंड न शनिवार क ो संविधान निर्माण क लिए सभी पार्टियों क साथ मिल जुलक र कोम क रन की इच्छा व्यक्त की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नेपाल में माओवादी सत्ता के करीब