DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पर्यावरण असंतुलन प्रजनन क्षमता के लिए घातक

आसपास का असंतुलित पर्यावरण न सिर्फ हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है बल्कि इससे मनुष्य की और खासकर पुरुष की प्रजनन क्षमता पर विपरीत असर पड़ता है। इस बारे में किए गए सर्वेक्षण से पता चलता है कि रसायन, टॉक्िसन तथा कीटनाशक के प्रयोग से हमारे शरीर का सिस्टम बिगड़ रहा है और हमारी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर रहा है। यह खुलासा तमिलनाडु के कोयम्बटूर में स्थित में कोवइ मेडिकल सेंटर एंड हास्पीटल फार फर्टिफटी के चिकित्सकों द्वारा हाल ही में किए गए सर्वेक्षण के सामने आया है। सेंटर के निदेशक डा. वी कन्नाकी उथराज ने बताया कि यह अध्ययन दो सौ लोगों पर किया गया है जिसमें शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के पुरुषों को शामिल किया गया। अध्ययन से पता चला है कि पर्यावरण असंतुलन का मनुष्य पर और खासकर पुरुषों पर विपरीत असर पड़ता है। उन्होंने कहा कि रासायनिक तत्व विशेष रुप से पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कहा कि उनके अध्ययन में पुरुषों में नपुंसकता का सबसे बड़ा कारण पर्यावरण प्रदूषण, रासायनिक तत्व तथा कीटनाशक को बताया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पर्यावरण असंतुलन प्रजनन क्षमता के लिए घातक